DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  रांची  ›  हटिया स्टेशन से बैरिकेडिंग तोड़ बिना कोविड जांच कराए निकले यात्री

रांचीहटिया स्टेशन से बैरिकेडिंग तोड़ बिना कोविड जांच कराए निकले यात्री

हिन्दुस्तान टीम,रांचीPublished By: Newswrap
Fri, 16 Apr 2021 09:30 PM
हटिया स्टेशन से बैरिकेडिंग तोड़ बिना कोविड जांच कराए निकले यात्री

रांची। संवाददाता

मुंबई और सूरत से शुक्रवार को ट्रेन से हटिया स्टेशन पहुंचे यात्रियों ने हंगामा किया और बिना कोरोना जांच कराए ही सैकड़ों यात्री स्टेशन से बाहर निकल गए। कोरोना जांच में हो रही विलंब से यात्री भड़क गए और स्टेशन पर की गयी बैरिकेडिंग को हटाते और गिराते हुए भाग गए। स्टेशन पर मौजूद आरपीएफ के जवानों ने यात्रियों को रोकने की कोशिश की, लेकिन यात्री नहीं माने।

हटिया स्टेशन पर एलटीटी (लोकमान्य तिलक टर्मिनल) से करीब 1700 और सूरत से 1300 यात्री पहुंचे थे। कोरोना जांच के लिए एक-एक बोगी से यात्रियों को उतारा जा रहा था। अन्य यात्रियों को ट्रेन में ही बैठने को कहा जा रहा था। दो घंटे से अधिक समय बीत जाने के बाद भी एक ट्रेन के यात्रियों की जांच पूरी नहीं होने पर यात्री बोगी में बैठे-बैठे भड़क गए और सभी व्यवस्था को ध्वस्त कर बाहर निकल गए। इस दौरान जिला प्रशासन के प्रतिनिधि मूकदर्शक बने रहे।

3.15 बजे पहुंची एलटीटी स्पेशल ट्रेन:

शुक्रवार दोपहर 3.15 बजे एलटीटी स्पेशल ट्रेन हटिया स्टेशन पहुंची। इसे प्लेटफार्म संख्या एक पर रोका गया। 24 कोच वाली इस ट्रेन में करीब 1700 प्रवासी मजदूर व यात्री सवार थे। एक-एक बोगी के यात्रियों को हटिया स्टेशन में कोविड जांच करने व रिपोर्ट आने के बाद ही बाहर निकलने दिया जा था। दो से तीन घंटे तक करीब 700 यात्रियों की जांच हुई। इसके बाद बोगी में बैठे यात्रियों का धैर्य टूट गया। वे सभी प्लेटफार्म के बाहर निकल आए और हो हंगामा करते हुए स्टेशन के बाहर निकलना शुरू कर दिए। उन्हें रोकने के लिए जो आरपीएफ ने बेरीकेडिंग लगाई थी। उसे भी यात्रियों की भीड़ ने धक्का देकर किनारे कर दिया। रेलवे सुरक्षा बल और जिला प्रशासन ने यात्रियों को खूब रोकने की कोशिश की। परंतु आक्रोशित यात्रियों की भीड़ बिना कोविड जांच किए बिना ही अपने गतंव्य के लिए निकल गयी।

चार टीमें जांच कर रही थीं:

जानकारी के अनुसार यात्रियों की जांच चार टीम कर रही थी। यात्रियों की संख्या ज्यादा हो गई थी और जांच में देरी हो रही थी। वही यात्रियों को सूचना मिली कि जांच किट भी समाप्त हो गई है। इसके बाद वे स्टेशन पर घंटों रूकने को तैयार नहीं हुए। इसके बाद सूरत-हटिया स्पेशल ट्रेन भी पहुंची। उसमें भी 24 कोच और करीब 1300 यात्री सवार थे। इस दौरान भी अफरा तफरी के माहौल में जैसी जांच होनी चाहिए थी। वैसी नहीं हो पाई। यात्रियों को घंटों स्टेशन में रोकने व कोविड जांच करने में जिला प्रशासन और प्रशासन का पसीना छूट गया। जबकि मौके पर एडीएम और रेलवे के सीनियर मंडल परिचालन प्रबंधक नीरज कुमार खुद निगरानी कर रहे थे।

दो ट्रेनों को दूसरे प्लेटफार्म से रवाना किया गया:

एलटीटी स्पेशल ट्रेन के हटिया स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या एक पर खड़ा किए जाने के कारण रेल परिचालन में समस्या उत्पन्न हो गई थी। इसके बाद हटिया से ट्रेन पकड़ने वाले यात्रियों को प्लेटफार्म संख्या दो पर भेजा गया। जहां से तपस्वनी एक्सप्रेस और जम्मूतवी एक्सप्रेस को रवाना किया गया।

कोविड मरीज को ले जाने के लिए मंगाए गए चार बस:

स्टेशन के बाहर रांची नगर निगम की चार सिटी बसें खड़ी की गई थीं। जांच में जिन यात्रियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही थी। उन्हें सिटी बस में बैठाकर क्वारंटाइन सेंटर भेजा जा रहा था।

संबंधित खबरें