DA Image
4 जून, 2020|4:30|IST

अगली स्टोरी

रेल कर्मियों को होम क्वॉरेंटाइन में भेजने से कॉलोनी में दहशत

default image

रेल मंडल के कई कर्मियों को होम क्वॉरेंटाइन में भेजने से रेलवे कॉलोनियों में दहशत है। कॉलोनी को पूरी तरह सील कर दिया गया है। दिन में यहां की सड़कें वीरान है। आरपीएफ को तैनात कर दिया गया है और वह लगातार गश्त कर रही है। मार्गों पर आरपीएफ जवानों की निगरानी है। बाहर से आने वाले को रोका जा रहा है। घर से बाहर निकलने वाले को भी रोका जा रहा है। केवल ड्यूटी करने वाले लोग बाहर निकल रहे हैं। बच्चे भी घर के अंदर कैद हो गए हैं। यहां दहशत का आलम यह है कि दिन में भी घर के अंदर कैद लोगों ने अंदर से अपने गेट पर ताला लगा दिया है।लगातार गश्ती करने का निर्देशआरपीएफ अधिकारियों के अनुसार तीन शिफ्ट में बटे टीम से हर शिफ्ट में तीन तीन बार पूरी कॉलोनी की गश्त लगाई जा रही है। डीआरएम परिसर, अस्पताल ,सामुदायिक भवन और अन्य परिसर की गश्ती की जा रही है। कर्मचारियों ने रिम्स में जांच कराने भेजारेल अधिकारियों के अनुसार राजधानी एक्सप्रेस में 17 मार्च को दिल्ली से आई ट्रेन में 60 रेल कर्मियों को चिन्हित कर उन्हें होम क्वॉरेंटाइन के लिए कहा गया है। इसमें से कई रेलकर्मी जिला प्रशासन के आदेश पर रिम्स में भी संक्रमण की जांच कराई है। इस ट्रेन में आ रहे आरपीएफ के कांस्टेबलों ने भी रिम्स में जांच कराई है। इसके अलावा कुछ रेलकर्मी कॉलोनी से बाहर भी रहते हैं। उन्हें भी होम क्वॉरेंटाइन में रहने का निर्देश दिया गया है।संक्रमण काल के बीते 14 दिनअधिकारियों के अनुसार 17 तारीख को आए ट्रेन को अब 14 दिन से अधिक हो चुके हैं। इससे संक्रमण का खतरा कम है। इसके बावजूद अभी भी होम क्वॉरेंटाइन के लिए कहा गया है।हटिया के प्लेटफार्म पर खड़ी है राजधानी17 मार्च को रांची पहुंची राजधानी एक्सप्रेस की रेट हटिया स्टेशन की प्लेटफार्म नंबर 2 पर खड़ी है। यह रेट उस दिन जिस स्थिति में आई उसी स्थिति में खड़ी है। आरपीएफ के अनुसार ट्रेन के आने के बाद इसे अंदर और बाहर पूरी तरह से सेनीटाइज कर दिया गया है। यहां तक कि उसके अंदर सामान भी जस के तस पड़े हैं।कॉलोनी वासियों ने कहाराजधानी एक्सप्रेस की घटना के बाद रेल कर्मियों में भी संक्रमण फैलने का अंदेशा बढ़ गया है। मैं घर के अंदर ही मास्क लगाकर रहती हूं। घर का काम कर रही हूं। कुछ दिन की ही बात है सब कुछ ठीक हो जाएगा।संध्या देवी, गृहिणी, हटिया रेलवे कॉलोनीसंक्रमण का खतरा रेल कर्मियों के बीच बढ़ गया था। रेलवे के बंद हो जाने से अब हम लोग अच्छा महसूस कर रहे हैं। लेकिन राजधानी एक्सप्रेस की घटना से आशंका बढ़ गई। हालांकि इसके अब 14 दिन हो चुके हैं।आकाश सिंह, विद्यार्थी, हटिया रेलवे कॉलोनी

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Panic in the colony by sending railway personnel to home quarantine