ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड रांचीसांसद स्तरीय मंडल रेलवे कमेटी की बैठक में 22 में से पहुंचे मात्र नौ सांसद

सांसद स्तरीय मंडल रेलवे कमेटी की बैठक में 22 में से पहुंचे मात्र नौ सांसद

सांसदों ने अपने-अपने क्षेत्र की रेल सुविधाओं व समस्याओं को रखा, सुझाव भी दिए, दक्षिण पूर्व रेलवे के रांची और चक्रधरपुर रेलमंडल के रेल अधिकारी हुए...

सांसद स्तरीय मंडल रेलवे कमेटी की बैठक में 22 में से पहुंचे मात्र नौ सांसद
हिन्दुस्तान टीम,रांचीWed, 29 Nov 2023 07:15 PM
ऐप पर पढ़ें

रांची, वरीय संवाददाता।
सांसद स्तरीय मंडल समिति की बैठक बुधवार को रांची स्थित होटल बीएनआर चाणक्या में हुई। आयोजन दक्षिण पूर्व रेलवे ने किया। इसमें रांची रेलमंडल और चक्रधरपुर मंडल अंतर्गत आने वाली लोकसभा सीटों के सांसद, राज्यसभा सांसद व उनके प्रतिनिधि शामिल हुए। दक्षिण पूर्व रेलवे के रांची और चक्रधरपुर मंडल अधीन कुल 22 सांसदों को आमंत्रित किया गया था, परंतु बैठक में मात्र नौ सांसद ही पहुंचे।

दरअसल, अपने क्षेत्रों में रेल संबंधी समस्या, सुझाव, नीति निर्धारण सहित अन्य रेल यात्री सुविधाओं के विकास में योगदान देने के लिए सांसदों को आमंत्रित किया गया था। इसमें रांची के सांसद संजय सेठ, राज्यसभा सांसद दीपक प्रकाश, सांसद सुदर्शन भगत, सांसद गीता कोड़ा, समीर उरांव, राज्यसभा सांसद डॉ महुआ माजी, क्योंझर सांसद चंद्रयानी मुर्मू के अलावा ओडिशा की राज्यसभा सांसद ममता मोहंता शामिल थीं। बैठक में दक्षिण पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक एके मिश्रा के अलावा रांची और चक्रधरपुर मंडल के डीआरएम सहित कई रेल अधिकारी भी शामिल हुए।

किस सांसद ने क्या कहा

चक्रधरपुर रेलवे स्टेशन से नहीं है कई जगहों के लिए सीधी रेल सेवा : गीता कोड़ा

पश्चिमी सिंहभूम से आयी कांग्रेस सांसद गीता कोड़ा ने कहा कि मेरा क्षेत्र आदिवासी बहुल इलाका है। इसलिए आवागमन के लिए रेलवे पर निर्भरता इस क्षेत्र में ज्यादा है। कोविड के बाद से कई ट्रेनें बंद हैं। फ्लाइओवर की मांग मैंने पिछली बार की थी। शिलान्यास केंद्रीय नितिन गडकरी ने कर दिया, परंतु अभी तक काम शुरू नहीं हुआ है। कई बार छोटा स्टेशन समझकर चक्रधरपुर को सुविधाओं से वंचित कर दिया जाता है। कई छात्र बाहर पढ़ने जाते हैं। अभी तक यहां से सीधी रेल सेवा नहीं है। इसके अलावा चक्रधरपुर व डांगापोशी में रेलवे अस्पताल की हालत काफी खराब है, जिसमें सुधार की जरूरत है। मैंने गुवा से चलने वाली ट्रेनों की समय सारणी में फेरबदल करने की भी बात कही है।

रेलवे कर्मचारी-अधिकारी की मिलीभगत से होती है कोयला की चोरी : डॉ महुआ

झामुमो की राज्यसभा सांसद महुआ माजी ने कहा कि झारखंड कोयला चोरी के लिए बदनाम है। इससे राज्य सरकार बदनाम होती है। परंतु आरोप लगता है कि कोयले की चोरी में रेलवे कर्मचारी-अधिकारियों की मिलीभगत होती है। कोयला की चोरी रोकने के लिए रेल प्रशासन ध्यान दे। कई बार महिलाएं रात में ट्रेनों से स्टेशन में उतरती हैं। उन्हें स्टेशन में सुरक्षा व रात गुजारने की व्यवस्था दी जाए। झारखंड में रेल सुविधाओं का अभाव है, यही वजह है कि यहां से लोग पलायन कर दूसरे शहर चले जाते हैं। ट्रेन की ऐसी सुविधा बहाल हो कि लोग सुबह आएं और शाम में काम कर लौट सकें।

माइनिंग की लोडिंग और पैसेंजरों का आवागमन एक स्टेशन से न हो : चंद्रयानी मुर्मू

बीजू जनता दल से देश की सबसे कम उम्र की क्योंझर सांसद चंद्रयानी मुर्मू ने कहा कि क्योंझर का छोटा सेक्शन बड़बिल-बांसपानी दक्षिण पूर्व रेलवे के अधीन आता है। यहां माइनिंग ज्यादा होती है। पैसेंजर और माइनिंग की लोडिंग एक ही स्टेशन में न हो, क्योंकि इससे पर्यावरण व लोगों की सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है। मैंने सुझाव दिया कि पैसेंजर व लोडिंग के लिए अगल-अलग व्यवस्था होनी चाहिए। पिछली बार बड़बिल स्टेशन के सुंदरीकरण के लिए मांग की थी। यह मांग अमृत भारत योजना के अंतर्गत पूरी हो रही है।

लोहरदगा स्टेशन का नामाकरण स्वतंत्रता सेनानी गणपत राय के नाम से हो : दीपक प्रकाश

भाजपा से राज्यसभा सांसद दीपक प्रकाश ने कहा कि लोहरदगा स्टेशन का नामाकरण स्वतंत्रता सेनानी शहीद गणपत राय के नाम से होना चाहिए। प्रधानमंत्री का संकल्प है कि रेलवे में सुधार हो। ऐसे सकारात्मक विषयों पर चर्चा हुई। यात्रियों को बेहतर सुविधा व परिचालन कैसे मिले और रांची से बनारस के लिए नई ट्रेन मिले, इस पर हमलोगों ने चर्चा की।

रेलवे प्रशासन मंदिर जैसे मुद्दों पर कार्रवाई से पहले जनप्रतिनिधियों से बात करे : संजय सेठ

रांची लोकसभा सीट के सांसद संजय सेठ ने कहा कि रेलवे प्रशासन मंदिर जैसे मुद्दे पर कार्रवाई से पहले जनप्रतिनिधियों से बात करे। चुटिया ओवरब्रिज के निर्माण में ध्यान रहे कि किसी का घर न टूटने पाए। रांची रेलवे स्टेशन का नाम भगवान बिरसा मुंडा के नाम से हो और उनकी बड़ी प्रतिमा स्टेशन में लगे। रेल योजनाओं के मामले में यदि राज्य सरकार प्रस्ताव नहीं भेजती है तो रेलवे संवेदनशील बनकर राज्य से प्रस्ताव मांगे।

क्या सुझाव दिए गए

टाटीसिलवे और सिल्ली में पूर्व की भांति सभी ट्रेनों का ठहराव हो

सिल्ली-मुरी के बांसारुली में भी सड़क निर्माण की पहल हो

नामकुम में फुट ओवरब्रिज का निर्माण हो

चुटिया में ओवरब्रिज का प्रस्ताव जल्द भेजें

निर्माण में नई-नई तकनीकों का इस्तेमाल हो

बेंगलुरु-चेन्नई एर्नाकुलम कोयंबटूर के लिए साप्ताहिक अंत्योदय ट्रेन चले

हटिया-साकी पैसेंजर का बड़काकाना तक विस्तार हो

धनबाद फिरोजपुर गंगा सतलज एक्सप्रेस का विस्तार रांची तक हो

मेसरा, बड़काकाना, मैक्लुस्कीगंज, खलारी और राय स्टेशन को धनबाद मंडल से हटाकर रांची रेलमंडल के अधीन लाया जाए।

चांडिल क्षेत्र के गेट संख्या एक और सात में दो पाहिया वाहनों के लिए ब्रिज बने

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें