class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुलिस में जल्द होंगी नौ हजार नियुक्तियां, 31 दिसंबर के बाद चलेगा ऑपरेशन ऑल आउट

पुलिस में जल्द होंगी नौ हजार नियुक्तियां, 31 दिसंबर के बाद चलेगा ऑपरेशन ऑल आउट

2017 नक्सलवाद के खात्मे का साल होगा। इसके लिए झारखंड पुलिस ऑपरेशन ऑलआउट चलाएगी। पुलिस बल को मजबूत करने के लिए तकरीबन 9000 पुलिसकर्मियों की बहाली भी होगी। झारखंड स्थापना दिवस परेड सह झारखंड अलंकरण दिवस के मौके पर मुख्य सचिव राजबाला वर्मा, गृह सचिव एसकेजी रहाटे, डीजीपी डीके पांडेय ने पुलिस विभाग की उपलब्धियां गिनायी, वहीं आगे के लक्ष्यों की भी जानकारी दी। सीसीटीएनएस में राज्य दूसरे स्थान परमुख्य सचिव राजबाला वर्मा ने कहा कि झारखंड पुलिस के प्रति लोगों में सम्मान है। महिला सुरक्षा, अपराध चुनौतियां है। लेकिन हमें अपराध के आयामों को समझने की जरूरत है। राज्य सरकार पुलिस आधुनिकीकरण पर जोर दे रही है। मुख्य सचिव ने कहा कि राज्य के लिए गर्व की बात है कि हम क्राइम कंट्रोल नेटवर्क सीसीटीएनएस में देश भर में दूसरे नंबर पर हैं। गृह सचिव ने की पुलिस बहाली की घोषणाकार्यक्रम के दौरान गृहसचिव एसकेजी रहाटे ने पुलिस में 9000 बहालियों की बात कही। उन्होंने कहा कि 3000 एसआई, कांस्टेबल, डीएसपी समेत 9000 पुलिसकर्मियों की बहाली छह माह के भीतर होगी। गृह सचिव ने कहा कि झारखंड में सरकार का लक्ष्य पारदर्शी और योग्य पुलिस बल बनाने की है। गृह सचिव ने कहा कि राज्य में सरकार प्रयत्न कर रही, मसलन, ऑनलाइन एफआइआर, सीसीटीएनएस, स्मार्ट पुलिस स्टेशन की कवायदें चल रही हैं। समाज को अपराधमुक्त, भयमुक्त, बेहतर विधि व्यवस्था और आधुनिक शैली के लिए पुलिस संकल्पित है।नक्सलियों के पास 31 दिसंबर तक का वक्त, सरेंडर कर दें - डीजीपीकार्यक्रम के दौरान डीजीपी डीके पाण्डेय ने कहा कि झारखंड पुलिस के हाथ में राज्य सुरक्षित है| 31 दिसंबर तक का समय नक्सलियों के पास समय है। डीजीपी ने कहा कि राह भटके नक्सली तय समय से पहले समर्पण कर दें, नहीं तो मारे जायेंगे| 31 दिसंबर के बाद पुलिस नक्सलियों को खत्म करने के लिए ऑपरेशन ऑलआउट चलाएगी। डीजीपी ने कहा कि सीएम के संकल्प के मुताबिक, झारखंड पुलिस महिलाओं की सुरक्षा के लिए दिन रात लगी हुई है। आने वाले समय में झारखंड पुलिस में एक तिहाई महिलाएं शामिल होंगी| आने वाले दिनों में झारखंड पुलिस का चेहरा बदल जायेगा। झारखंड से अपराधियों के सफाए के लिए अनुसंधान विभाग कमर कस के काम कर रही है| झारखंड पुलिस साइबर क्राइम को समाप्त करने के लिए साइबर अपराधियों के लिए मुहिम चला रही है| साइबर क्राइम को समाप्त करने के लिए जिला स्तर पर प्रत्येक सप्ताह और डी जी के स्तर पर प्रत्येक सोमवार को बैठक आयोजित की जा रही है|

पुलिसकर्मियों को सौंपा गया पदक

कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री रघुवर दास ने 89 पुलिसकर्मियों को पदक से सम्मानित किया। सीएम खुद सभी पदक पाने वाले पुलिसकर्मियों से बारी-बारी से मिले। कार्यक्रम के दौरान पीएलएफआइ के साथ मुठभेड़ में मारे गए शहीद विद्यापति सिंह (बानो केथानेदार) शहीद आरक्षी तुराम वीरूली के आश्रितों को भी नियुक्ति पत्र सौंपा गया।

कार्यक्रम के दौरान बेहोश हुए पांच पुलिसकर्मी

परेड शुरू होने से काफी पहले से पुलिसकर्मियों की तैनाती जैप ग्राउंड में कर दी गई थी। कार्यक्रम के दौरान लगातर खड़े रहने से पांच पुलिसकर्मी बेहोश हो गए। जिसके बाद उन्हें मैदान से उठा कर ले जाया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Nine thousand appointments in police soon
अपराध करने वाले सफेदपोशों को चिन्हित करे पुलिस, सरकार नहीं करेगी हस्तक्षेप: सीएमपूंजीपतियों के लिए नहीं छीनने दी जाएगी गरीबों की जमीन: हेमंत