DA Image
17 जनवरी, 2021|11:54|IST

अगली स्टोरी

अलग सरना धर्म कोड को लेकर राष्ट्रव्यापी रेल-रोड चक्का जाम आज

default image

रांची। वरीय संवाददाता

सरना धर्म कोड को लागू करने की मांग को लेकर विभिन्न आदिवासी संगठनों की ओर से रविवार को चक्का जाम आंदोलन होगा। देशव्यापी सड़क-रेल मार्ग को जाम करने की पूर्व संध्या पर शनिवार को राजधानी में मशाल जुलूस निकाला गया। मेन रोड के अलबर्ट एक्का चौक पर मशाल जुलूस के समापन पर सभा का आयोजन किया गया। सभा में केंद्रीय सरना समिति, अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद और आदिवासी सेंगेल अभियान के नेता और कार्यकर्ता शामिल थे।

इस मौके पर केंद्र सरकार से अगले साल होने वाली जनगणना में अलग सरना धर्म कोड लागू करने की मांग की गयी। केंद्रीय सरना समिति के केंद्रीय अध्यक्ष फूलचंद तिर्की और अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद के अध्यक्ष सनारायण रखड़ा ने बताया कि पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत रेल मार्ग चक्का जाम करने के संबंध में रांची रेल मंडल और डीआरएम कार्यालय को लिखित सूचना दी गयी है।

कार्यक्रम में बाना मुंडा, प्रशांत टोप्पो, संजय तिर्की, विनय उंराव, किशन लोहरा, ज्योत्सना भगत, सूरज तिग्गा, सुखवरो उरांव, अमर तिर्की, सीमा बाड़ों समेत अन्य शामिल थे।

हर संगठन के लोग सहयोग करें: सालखन

आदिवासी सेंगेल अभियान के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व सांसद सालखन मुर्मू ने कहा कि 2021 की जनगणना में देश के आदिवासियों को भी सरना धर्म कोड के साथ शामिल होने का हक है, परंतु यह अधिकार उन्हें अब तक प्राप्त नहीं है। रविवार को राष्ट्रव्यापी रेल-रोड चक्का जाम हमारी मजबूरी है। हमारे कार्यकर्ता झारखंड, बंगाल, बिहार, ओड़िशा और असम में इसके लिए तैयार हैं। उन्होंने इस मसले पर विभिन्न सामाजिक, धार्मिक और राजनीतिक संगठन के प्रमुख और कार्यकर्ताओं से आंदोलन में सहयोग का आग्रह किया है।

अलग धर्म कोड को लेकर प्रधानमंत्री से करेंगे भेंट :

राष्ट्रीय आदिवासी समाज सरना धर्म रक्षा अभियान की ओर से शनिवार को हरमू देशवली सरना स्थल में प्रतिनिधि सभा का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता धर्मगुरु बंधन तिग्गा ने की। कार्यक्रम में केंद्र सरकार से सरना-आदिवासी धर्म कोड लागू करने की मांग की गयी। यह तय किया गया कि अलग धर्म कोड की मांग को लेकर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और आदिवासी मामलों के मंत्री समेत विभिन्न आयोग, रजिस्ट्रार जनरल को ज्ञापन सौंप कर मुलाकात किया जाएगा। संगठन की ओर से 251 सदस्यों की राष्ट्रीय स्तर का कार्यकारी दल गठन करने और इसमें देश के विभिन्न हिस्से से समाज के लोगों की भागीदारी की सहमति बनी। राजधानी में 28 फरवरी, 2021 को सरना धर्म महारैली आयोजित करने का भी निर्णय हुआ।

कार्यक्रम में डॉ करमा उरांव, नारायण उरांव, शिवा कच्छप, सोमा मुंडा, बिरसा कांडिर, बगराय ओडया, कमले उरांव, रवि तिग्गा, बलकू उरांव, संजय कुजूर, चम्पा कुजूर, प्रदीप तिर्की, बिहारी लकड़ा, प्रो प्रेमनाथ मुंडा, रमेश उरांव, सुशीला उरांव, अनूप किंडो, ब्रजकिशोर बेदिया, विजय धान, अनिल भगत समेत अन्य मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Nationwide rail-road traffic jam today for separate Sarna religion code