DA Image
11 अगस्त, 2020|6:33|IST

अगली स्टोरी

15 दिन में 20 रुपए महंगा हुआ सरसों तेल

default image

लॉकडाउन के बाद सरसों तेल की कीमत खुदरा दुकान में आसमान छूने लगी है। तेल की कीमत में लगातार इजाफा हो रहा है। फुटकर दुकानदार विभिन्न ब्रांड के तेल में 12 रुपए से लेकर 25 रुपए तक का इजाफा कर चुके हैं। जबकि थोक के भाव में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। पंडरा बाजार में तेल के होलसेल व्यापार मनोज कुमार छापड़िया ने बताया कि तेल की कीमत में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। मंगलवार को ही विभिन्न तेल के दामों में तीन रुपए की गिरावट आई है।950 का पोस्टमैन 1025 का हो गया विभिन्न ब्रांड के तेल में लगभग 15-20 रुपए का इजाफा हुआ है। 112 रुपए लीटर बिकने वाला सलोनी अभी 120 रुपए लीटर मिल रहा। वहीं इंजन की कीमत 130 रुपए प्रति लीटर पहुंच गया है। जबकि 950 रुपए में पांच लीटर मिलने वाले पोस्टमैन की कीमत अब 1025 रुपए में पांच लीटर हो गया है। इसके अलावा दो सप्ताह पहले 38 रुपए किलो मिलने वाला चीनी अभी 40 रुपए किलो मिल रहा है।थोक में घट रहा है तेल का दाम वहीं इसके उलट थोक बाजार में तेल की कीमत में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। एक सप्ताह में दूसरी बार सोमवार को तेल के दाम में कमी आई है। सोमवार को पंडरा बाजार में सलोनी तेल 112 रुपए लीटर, हाथी 113 रुपए लीटर और धनुष 115 रुपए लीटर मिल रहा था। डीजल के दाम में बढ़ोतरी का असर नहीं रांची बाजार समिति के कार्यकारिणी सदस्य संजय माहुरी ने बताया कि डीजल के दामों में वृद्धि का असर फिलहाल खाद्यान्न की कीमतों पर नहीं पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि झारखंड में मुख्य रूप से राजस्थान, इंदौर और बंगाल के हल्दिया से सरसों तेल आता है। प्रति टन 100 रुपए भाड़ा बढ़ा है। वहीं रांची जिला मालवाहक ऑटो संघ के मुख्य संरक्षक ललित ओझा ने कहा कि फिलहाल भाड़े में किसी प्रकार का कोई बदलाव नहीं किया गया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Mustard oil became costlier by Rs 20 in 15 days