DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एचईसी और रूस की कंपनी करेगी ज्वाइंट वेंचर

एचईसी और रूस की कंपनी करेगी ज्वाइंट वेंचर

एचईसी और रूस की कंपनी ओकेबीएम रोसाटोम न्यूक्लियर ऊर्जा के क्षेत्र में ज्वाइंट वेंचर पर काम करेंगी। दोनों कंपनियों ने इसके लिए तैयारी शुरू कर दी है। इस सिलसिले में रूस की इस कंपनी के अधिकारियों ने एचईसी का दौरा किया। प्लांटों का निरीक्षण किया और यहां की आधारभूत संरचनाओं की जानकारी हासिल की। शीघ्र ही अब अगले दौर की बात होगी। इसके बाद दोनों कंपनियां न्यूक्लियर सेक्टर में ज्वाइंट वेंचर कर सकती हैं। एचईसी आने वाली टीम का नेतृत्व कंपनी के उप डिजाइन प्रमुख ओलेग ओलगोविच, उत्पादनके उप निदेशक पोपोव एलेक्जेंडर, मुख्य तकनीशियन विटनोब यूरी वेनिविमोच शामिल थे। टीम ने प्लांटों का निरक्षण कर एचईसी के अधिकारियों के साथ वार्ता की। वार्ता काफी सकारात्मक रही है। एचईसी की क्षमता और सुविधाओं से रूसी टीम प्रभावित हुई है। एक-दो दौर की वार्ता के बाद इनके बीच ज्वाइंट वेंचर का करार कर लिया जाएगा। एचईसी अधिकारियों के अनुसार रूसी कंपनी न्यूक्लियर सेक्टर में भारत में काम करना चाहती थी। इस कंपनी के पास इस क्षेत्र में काम करने का बेहतर अनुभव है। लेकिन भारत सरकार की शर्त के अनुसार विदेशी कंपनी को किसी भारतीय कंपनी के साथ मिल कर काम करना होगा। इसके बाद एचईसी ने इस कंपनी के साथ काम करने का प्रस्ताव दिया था और कहा था कि भारत में सिर्फ एचईसी के पास ही इस तरह के काम करने की क्षमता और सुविधाएं हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:joint venture between hec and russian company soon