ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड रांचीनक्सलवाद से ज्यादा खतरनाक हो गयी है झारखंडी-गुदड़ी-सोनुवा सड़क

नक्सलवाद से ज्यादा खतरनाक हो गयी है झारखंडी-गुदड़ी-सोनुवा सड़क

खूंटी से अगर पश्चिमी सिंहभूम के सोनुवा जाना हो तो, चक्रधरपुर होकर जाना पड़ता है, जिसकी दूरी खूंटी से 125 से 130 किमी है, लेकिन एक सड़क है, जिससे...

नक्सलवाद से ज्यादा खतरनाक हो गयी है झारखंडी-गुदड़ी-सोनुवा सड़क
हिन्दुस्तान टीम,रांचीFri, 08 Dec 2023 02:30 AM
ऐप पर पढ़ें

खूंटी, संवाददाता। खूंटी से अगर पश्चिमी सिंहभूम के सोनुवा जाना हो तो, चक्रधरपुर होकर जाना पड़ता है, जिसकी दूरी खूंटी से 125 से 130 किमी है, लेकिन एक सड़क है, जिससे होकर खूंटी से सोनुवा लगभग 60 से 65 किमी की दूरी तय कर पहुंचा जा सकता है। इस सड़क को अगर बंदगांव प्रखंड के पोड़ोंगेर से गुदड़ी-सोनुवा तक लगभग 28 किमी बना दी जाय, तो राह आसान हो जाएगी और नक्सल प्रभावित क्षेत्र का भी विकास तेजी से हो पाएगा। यह सड़क उपेक्षित इसलिए रहा कि पूरा इलाका नक्सल व उग्रवाद प्रभावित था। लेकिन अब इस इलाके में इसका भय नजर नहीं आता। हालाकि खूंटी से पोड़ोंगेर तक चकाचक चौड़ी सड़क है। पोड़ोंगेर से झारखंडी तक छह किमी पतली व जर्जर सड़क है। लेकिन झारखंडी से गुदड़ी तक कच्ची और गड्ढ़ों से भरा रास्ता है। इस रास्ते पर हर दिन ओवरलोड सवारी गाड़ियां चलतीं हैं, जिससे हर समय दुर्घटना की संभावना बनी रहती है। ग्रामीण करते हैं कि पोड़ोंगेर से गुदड़ी तक की सड़क नक्सलवाद से भी खरनाक है।

ग्रामीणों के द्वारा लगातार मांग किए जाने के बाद खूंटी से पोड़ोंगेर व पोड़ेंगेर से रनिया तक अच्छी सड़क बना दी गई है। जिससे गांव के लोग को हाट-बाजार, हॉस्पीटल जाने में असानी होती है। लेकिन पोड़ोंगेर से झारखंडी, कोयलेड़ा, कामरोड़ा, बागू, जतरमा होते हुए गुदड़ी तक 20 किमी और गुदड़ी से सोनुवा आठ किमी सड़क बना दी जाए, तो संपूर्ण इलाके का विकास तेजी से हो पाएगा। ग्रामीणों ने इस संबंध में स्थानीय विधायक सह मंत्री जोवा मांझी को कई बार आवेदन दिया, लेकिन अब तक सड़क नहीं बनी। जिससे दर्जनों गांवों के लोग परेशान हैं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें