ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड रांचीजरिया पंचायत सचिवालय बदहाल, मुखिया के शौचालय में पड़ा है 120 लीटर सेनेटाइजर

जरिया पंचायत सचिवालय बदहाल, मुखिया के शौचालय में पड़ा है 120 लीटर सेनेटाइजर

तोरपा प्रखंड का जरिया पंचायत आजादी के बाद समस्याओं से जकड़ा रहा। झारखंड अलग राज्य बना, तो नक्सलवाद और उग्रवाद ने विकास को रोका। वर्षों तक पंचायत...

जरिया पंचायत सचिवालय बदहाल, मुखिया के शौचालय में पड़ा है 120 लीटर सेनेटाइजर
हिन्दुस्तान टीम,रांचीTue, 19 Sep 2023 01:50 AM
ऐप पर पढ़ें

खूंटी, अजय शर्मा। तोरपा प्रखंड का जरिया पंचायत आजादी के बाद समस्याओं से जकड़ा रहा। झारखंड अलग राज्य बना, तो नक्सलवाद और उग्रवाद ने विकास को रोका। वर्षों तक पंचायत सचिवालय में पुलिस कैंप रहा। अब इस इलाके से उग्रवाद लगभग खत्म हो गया है, लेकिन विकास गति नहीं पकड़ रही है। पंचायत के अधिकांश लोगों के पास आजीविका के साधन नहीं होने के कारण दशकों से जंगलों को काटकर जलावन के गट्ठर बनाकर 20 से 25 किमी दूर तोरपा, मुरहू और खूंटी ले जाकर बेचते हैं, जिससे उन्हें नमक, साबून और तेल भर पैसे मिल पाते हैं। अब इस पंचायत के विकास में सबसे बड़ी बाधा यहां का पंचायत सचिवालय है।
मुखिया, पंचायत सचिव के कक्ष समेत सभी दरवाजे टूटे-फूटे

अब यहां पुलिस कैंप नहीं है, बावजूद इसके पंचायत सचिवालय बदहाल है। काली सड़क से मुख्य द्वार तक पानी और कीचड़ भरा है। सभागार में रिवॉल्विंग चेयर, वीआईपी चेयर और प्लासटिक चेयर है। आम बागवानी के लिए किसानों को बांटे जाने वाले केमिकल व दवाओं की पेटियां रखीं हैं। हर तरफ धुल व गंदगी का अंबार लगा है। लगभग दो दर्जन नई डस्टबीन पर डस्ट जमा हुआ है। मुखिया के कक्ष के सभी दरवाजों को दीमक खा गए हैं। अंदर शौचालय के टूटे दरवाजे के अंदर छह प्लासटिक के जार में लगभग 120 लीटर सेनिटाइजर पड़े हैं। इंटरनेट कनेक्टिविटी के लिए लाखों रुपये की लागत से लगाया गया वी-सेट पर धूल जमे हुए हैं। खली के फटे बोरे, पंचायत सचिव के कक्ष समेत टूटे दरवाजे व खिड़की, हर तरफ गंदगी ही जरिया पंचायत सचिवालय की पहचान बन गई है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।