DA Image
18 सितम्बर, 2020|10:58|IST

अगली स्टोरी

सिंगल लाइन के कारण रांची की रेल कनेक्टिविटी में बाधा

default image

सिंगरौली गढ़वा सिंगल लाइन होने के कारण रांची के लिए नई ट्रेनों के मार्ग में बाधा पड़ने लगी है। इसलिए इस लाइन पर नई ट्रेनें की संभावना इसके दोहरीकरण के बाद ही पूरी होगी। रांची डाल्टनगंज वाया मुरी बरकाकाना रेल लाइन दोहरीकरण की योजना पास हो गई है। मुरी से बरकाकाना तक रेल दोहरीकरण का बजट पास हो चुका है। लेकिन इस दिशा में अभी काम शुरू नहीं हुआ है। वहीं, गढ़वा से सिंगरौली के बीच सिंगल लाइन के दोहरीकरण का काम शुरू हो चुका है। लेकिन अभी कोरोना काल में यह काम काफी धीमी गति से चल रहा है। गढ़वा सिंगरौली सिंगल लाइन के कारण हाल में ही उधना से रांची के बीच नई प्रस्तावित ट्रेन को रेलवे ने चलाने से इनकार कर दिया था।

मुरी-बरकाकाना के बीच 58 किमी का होगा दोहरीकरण

मुरी-बरकाकाना के बीच 58 किमी रेल दोहरीकरण के लिए 580 करोड़ रुपए की स्वीकृति हो चुकी है। लेकिन अभी कोरोना के कारण इसका काम शुरू नहीं हो सका है। इसके दोहरीकरण होने से यात्री ट्रेनों की आवाजाही बढ़ेगी। रेलवे के सीपीआरओ नीरज कुमार के अनुसार मुरी बरकाकाना लाइन दोहरीकरण की योजना बन चुकी है। आनेवाले समय में इसके शुरू करने की प्रक्रिया तेज की जाएगी।

बढ़ेगी एमपी और गुजरात के शहरों से कनेक्टिविटी

इन लाइनों के दोहरीकरण से रांची की मध्य प्रदेश और गुजरात के शहरों से रेल कनेक्टिविटी काफी बढ़ जाएगी। रांची टोरी लाइन से चलनेवाली प्रस्तावित ट्रेनों का विस्तार सिंगरौली तक हो सकता है। रांची से चोपण एक्सप्रेस को टोरी मार्ग से चलाने का प्रस्ताव है। लेकिन सिंगरौली तक डबल लाइन होने से इसका विस्तार सिंगरौली तक हो सकता है। सिंगरौली में सीसीएल और कई पावर प्लांट हैं। सिंगरौली से रांची के बीच यात्रियों की उपलब्धता अधिक है। साथ ही गुजरात के उधना से रांची तक प्रस्तावित नई साप्ताहिक ट्रेन चलने का मार्ग प्रशस्त हो जाएगा। रांची से गढ़वा सिंगरौली होकर कटनी, दामोह, बीना, भोपाल, उज्जैन, रतलाम, गोधरा, बड़ौदा आदि नए शहरों के लिए कनेक्टिविटी बढ़ सकती है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Interruption in rail connectivity of Ranchi due to single line