DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  रांची  ›  हिन्दुस्तान मित्र : अखबार बेचकर बच्चों को अच्छे स्कूलों में शिक्षा दिला पा रहा हूं : राजीव सिंह
रांची

हिन्दुस्तान मित्र : अखबार बेचकर बच्चों को अच्छे स्कूलों में शिक्षा दिला पा रहा हूं : राजीव सिंह

हिन्दुस्तान टीम,रांचीPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 03:10 AM
हिन्दुस्तान मित्र : अखबार बेचकर बच्चों को अच्छे स्कूलों में शिक्षा दिला पा रहा हूं : राजीव सिंह

रांची। संवाददाता

राजीव सिंह 1990 में बिहार के भागलपुर जिला बांका से रांची में अपने बड़े भाई कृष्णानंद सिंह के साथ आए। राजीव सिंह पेपर लाइन में 1990 में जब आए तब उनकी उम्र मात्र 10 वर्ष थी। आज वे हजार कॉपी बेचते हैं। इस काम से वे अपने परिवार का भरण पोषण अच्छे से कर रहे हैं। बच्चों को अच्छे स्कूलों में भी पढ़ा रहे हैं।

राजीव सिंह 10 वर्ष की उम्र में ही वे अपने बड़े भाई कृष्णानंद सिंह के साथ पान की गुमटी में काम करने लगे और वहीं 10-15 पेपर बेचने से अपने काम शुरू किया। इसके बाद अपने भाई के कहने पर उन्होंने एचईसी गेट के पास पेपर बेचना शुरू किया। परंतु, थोड़े से अखबार से उनको उतनी आमदनी नहीं हो पती थी कि जिससे कि वे अपना खर्चा निकाल सकें। धीरे-धीरे घर-घर जाकर पेपर देने लगे और अपना अखबार 15 से 150 पेपर कर लिए। वर्तमान में अपने मेहनत से 1000 पेपर हटिया क्षेत्र में बेच रहे है। इनके पास चार बीट बॉय भी कार्य कर रहे हैं और उनका घर भी इसी व्यवसाय से चल रहा है। अखबार बेचने के साथ साथ वे समय निकाल कर अपना पढ़ाई भी जारी रखा और अपना पढ़ाई भी पूरा किया।

जब वह रांची आए तो वे किराये के एक छोटे से मकान में रहा करते थे एवं उनका परिवार पूरी आर्थिक तंगी से जूझ रहा था। आज उनका भरा पूरा परिवार है। पत्नी के साथ दो बच्चे हैं। बड़ी बेटी छठी में रांची के सीक्रेट हार्ट स्कूल में पढ़ती हैं। छोटा बेटा संत थॉमस स्कूल एलकेजी में पढ़ाई कर रहा है। इनका कहना है कि अखबार किसी काम को मन लगाकर किया जाए तोसप लता निश्चित मिलती है। आज अखबार बेचने के काम से मैं अपने बच्चों को अच्छे स्कूलों में शिक्षा दिला पा रहा हूं। उन्होंने कहा कि कुछ सालों में अपना घर बनाने का सपना भी पूरा कर लूंगा।

संबंधित खबरें