DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रूस के बाद अब चेक गणराज्य की कंपनी से होगा एमओयू

रूस की दो कंपनियों के साथ पानी जहाज और न्यूक्लियर पावर प्लांट के उपकरणों के निर्माण के बाद अब चेक गणराज्य की कंपनियों के साथ भी एचईसी का एमओयू शीघ्र होगा। इसके लिए दोनों कंपनियो के साथ वार्ता अंतिम चरण में है। सीएमडी के रूस दौरे के बाद इस पर समझौता हो सकता है। प्रधानमंत्री के रूस दौरे के क्रम में एचईसी के सीएमडी इन दिनों रूस में हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे के ठीक पहले एचईसी का इन दो कंपनियों के साथ एमओयू किया गया। चेक गणराज्य की कंपनियों के साथ प्लांटों के आधुनिकीकरण के साथ कुछ उपकरणों की नई तकनीक को लेकर समझौता किया जा सकता है। हालांकि प्लांटों के आधुनिकीकरण को लेकर उसकी कुछ कंपनियों के साथ बात होगी। चेक गणराज्य के राजदूत ने पिछले दिनों एचईसी का दौरा किया था। इसके बाद इस पर सैद्धांतिक सहमति बनी थी। एचईसी का एफएफपी प्लांट चेक गणराज्य के सहयोग से ही बना है। आधुनिकीकरण के पहले भी इस प्लांट की प्रेस मशीन और दूसरी मशीनों को अपग्रेड का काम चेक गणराज्य की कंपनी स्कोडा ने ही किया है। एफएफपी प्लांट एचईसी का प्रमुख प्लांट है। इस कारण चेक गणराज्य से ही इस प्लांट का आधुनिकीकरण कराने की योजना बनी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:HEC will signed mou with chezk republic