Geeta is a perfect solution for peace of mind - मन की शांति के लिए अचूक उपाय है गीता DA Image
15 दिसंबर, 2019|2:53|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मन की शांति के लिए अचूक उपाय है गीता

default image

मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की मोक्षदा एकादशी के मौके पर आठ दिसंबर को गीता जयंती मनायी जाएगी। मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की एकादशी को भगवान श्रीकृष्ण ने कुरूक्षेत्र में युद्ध और धर्म क्षेत्र के बीच अर्जुन को गीता का उपेदश दिया। इस मौके पर शहर के विभिन्न क्षेत्रों में शोभायात्रा, पाठ समेत अन्य धार्मिक अनुष्ठान होंगे। श्रीमद्भागवत गीता भगवान श्रीकृष्ण के द्वारा अर्जुन को दिया गया उपेदश है। यह ईश्वरीय ज्ञान है क्योंकि सांसारिक दुखों में भटके अर्जुन को विराट स्वरूप दिखाकर विश्व कल्याण की बात समझायी थी। एक तरह से यह ब्रह्मांड में व्यापत परम ईश्वर का दिया गया ज्ञान है। मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की एकादशी को भगवान श्रीकृष्ण ने कुरूक्षेत्र में युद्ध और धर्म क्षेत्र के बीच अर्जुन को गीता का उपेदश दिया था।

आज के संदर्भ में नित्य नया है गीता

गीता आज के संदर्भ में नित्य नया है। ज्योतिषाचार्य आचार्य श्रीकृ ष्ण ने बताया कि गीता उपदेशोंे से अच्छा नागरिक बनने का मूल मंत्र मिल सकता है। इससे सभी लोग दूसरों का भी मार्गदर्शन करने में सक्षम होंगे और खुद के अलावा अन्य के जीवन को धन्य कर सकते हैं।

कर्मयोगी बनने का देता है संदेश

चिन्मय मिशन आश्रम के स्वामी माधवानंद बताते हैं कि गीता कर्मयोगी बनाने का संदेश देता है। वर्तमान समय में मृत्यु लोक के प्राणी कर्मयोग को भूलते जा रहे हैं। हम सभी को कर्म जीवन में गीता के उपदेशों को सुन कर अच्छी तरीके से कर्म करें। इससे सभी का कल्याण संभव होगा। उन्होंने बताया कि गीता से हमें यह संदेश मिलता है कि कर्म के चार सूत्र अहंकार नहीं करना चाहिए, को सदा याद रखना चाहिए। जीवन में समर्पण भाव होना जरूरी है। अशाक्ति नहीं होनी चाहिए और कभी भी फल से इच्छा नहीं रखनी चाहिए। इसके पाठ से जीवन में सकारात्मक भाव जागृत होते हैं।

मन की शांति के लिए उपेदश है माध्यम

भागदौड़ की जिंदगी में अशांत मन की शांति के लिए गीता उपेदश का मजबूत माध्यम है। गीता के श्लोकों में मन की शांति प्राप्त करने का अचूक उपाय है। श्रीमद्भागवत गीता के द्वादश अध्याय में भक्ति योग प्रसंग में भक्ति के लक्षण बताए गए हैं। इनमें करुणा, दया, परहित, अहिंसा समेत 32 लक्षण शामिल हैं। स्वामी माधवानंद ने बताया कि इनमें से एक को भी व्यावहारिक जीवन में उतार कर जीवन को सफल बनाया जा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Geeta is a perfect solution for peace of mind