class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रांची: 11 बड़े डाक्टरों पर FIR,मरीज का किया गलत इलाज जिससे हो गई मौत

कोकर हैदरअली रोड निवासी विनोद कुमार गुप्ता ने अपनी 11 माह की बच्ची की मौत के बाद 11 डॉक्टर समेत 21 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कराया है। आरोपियों में रांची के पांच, कोलकाता के दो और बेंगलुरू के चार डॉक्टर शामिल हैं। गुप्ता का आरोप है कि बिना बीमारी का पता लगाए डॉक्टरों ने गलत इलाज किया और दवाएं दीं। इससे तीन अगस्त को बच्ची की मौत हो गई।

दिल की थी बीमारी, सर्दी की दवा दी: विनोद ने बताया कि बच्ची को हृदय रोग था। उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। वह खाना भी नहीं खा पा रही थी। लेकिन डॉक्टरों ने बिना जांच किए, खांसी की दवा दी। इससे उसकी स्थिति बिगड़ गई।

कोताही-
गुप्ता ने कहा कि 21 मई को उन्होंने डॉ विनोद कुमार को दिखाया। खांसी-बुखार व सर्दी की दवा दी गई। जब सुधार नहीं हुआ, तो डॉ कृष्ण कुमार को दिखाया। उन्होंने भी सर्दी-खांसी की दवा दे दी। स्थिति में सुधार नहीं होने पर 17 और 19 जून को डॉ राजेश कुमार को बच्ची को दिखाया। डॉ राजेश ने लिखा बच्ची ठीक है। लेकिन स्थिति नहीं सुधरी, तो डॉ शैलेश चंद्रा से बच्ची का इलाज कराया। डॉ शैलेश ने नेबुलाइजेशन किया, लेकिन सुधार नहीं हुआ। तब बेटी को रानी चिल्ड्रेन में भर्ती कराया गया। इसके बाद बताया गया कि हार्ट का एलवीइएफ का वैल्यू कम है।

लापरवाही-
गुप्ता बेटी को लेकर कोलकाता स्थित रवींद्रनाथ टैगोर इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डिएक साइंस ले गए। 24 जून को उनकी बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉ विश्वजीत बंधोपध्याय ने स्थिति में सुधार कहते हुए 28 जून को छुट्टी दी। 11 जुलाई को फिर बच्ची ने खाना बंद कर दिया। डॉ विश्वजीत से संपर्क करने के बाद वह फिर कोलकाता गए। 17 जुलाई को फिर छुट्टी दे दी गई। इसके बाद विनोद बेटी को नारायण इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डिएक साइंस में ले गए। 19 जुलाई को उसे डॉ सुरेश ने भर्ती किया। इलाज चला। तीन अगस्त को बच्ची की मौत हो गई।

आरोपी-
मेडिका रांची के डॉ विनोद कुमार, शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ कृष्ण कुमार, रानी हॉस्पिटल के डॉ राजेश कुमार, डॉ शैलेश चंद्रा, डॉ प्रदीप कुमार जैन, र¨वद्रनाथ टैगोर इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियक कोलकाता के डॉ विश्वजीत बंधोपध्याय, डॉ रीता सेनगुप्ता, नारायण इंस्टूयूट ऑफ कार्डियक सांइस बेंगलुरु के डॉ सुरेश, डॉ इदन भुटिया, डॉ अभिनव अग्रवाल, डॉ शेख आमिर, स्टाफ माधवी, गीता, शिल्पा, सौमिया, चंद्रशेखर, बिदेश चंद्र पाल के अलावा मैनेजिंग डायरेक्टर, चेयरमैन आदि। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:FIR against 11 big doctors because of wrong treatment of patient
10 लाख थैले बांटेगा मोरचाचिटफंड घोटाला: ईडी ने रांची के होटल पार्क प्राइम को किया अटैच