DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड का हर जिला ओडीएफ हो जायेगा: मुख्यमंत्री

झारखंड का हर जिला ओडीएफ हो जायेगा: मुख्यमंत्री

1 / 2मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य के 212 स्कूलों को स्वच्छता में फाइव स्टार मिल सकता है तो राज्य के 38 हजार स्कूलों को क्यों नहीं मिल सकता है। अगर शिक्षक-शिक्षा के पदाधिकारी हर चुनौती को पूरा कर...

झारखंड का हर जिला ओडीएफ हो जायेगा: मुख्यमंत्री

2 / 2मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य के 212 स्कूलों को स्वच्छता में फाइव स्टार मिल सकता है तो राज्य के 38 हजार स्कूलों को क्यों नहीं मिल सकता है। अगर शिक्षक-शिक्षा के पदाधिकारी हर चुनौती को पूरा कर...

PreviousNext

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य के 212 स्कूलों को स्वच्छता में फाइव स्टार मिल सकता है तो राज्य के 38 हजार स्कूलों को क्यों नहीं मिल सकता है। अगर शिक्षक-शिक्षा के पदाधिकारी हर चुनौती को पूरा कर सकते हैं। इसके लिए वे संकल्प लें और स्वच्छता अभियान में राज्य के सभी 100 फीसदी स्कूल शामिल होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूली बच्चों को पढ़ाई के साथ-साथ टोले-मोहल्ले, कस्बा में भी जागरुकता फैलाकर स्वच्छ रखने का काम करें। शिक्षक और प्राचार्य भी इसमें मार्गदर्शक की भूमिका निभायें। बच्चे जहां रहते हैं उसे साफ-सुथरा रहें। राज्य सरकार ने आठ जिले को खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) घोषित कर दिया है। बाकि जिलों को सितंबर महीने तक का डेटलाईन दिया गया है, ताकि दो अक्तूबर 2018 से पहले झारखंड का हर जिला ओडीएफ हो जायेगा। स्वच्छता को लेकर राज्य स्तरीय विद्यालय पुरस्कार समारोह में झारखंड एकेडमिक काउंसिल के अध्यक्ष डॉ अरविंद प्रसाद सिंह, शिक्षा के अपर सचिव शैलेश कुमार चौरसिया, यूनिसेफ की मधुलिका जोनाथन समेत जिलों के डीईओ-डीएसई समेत अन्य मौजूद थे।

बच्चियों के साथ सहेली की तरह बर्ताव करें शिक्षिका : शिक्षा मंत्री

शिक्षा मंत्री डॉ नीरा यादव ने कहा कि स्कूली शिक्षिका बच्चियों के साथ सहेली की तरह बर्ताव करें। बच्चियों की समस्याएं पर उनसे बात कर उसका निराकरण करें। बच्चों के स्कूलों में उनसे अपने-अपने नाम पर एक-एक पेड़ लगवाये। साथ ही उसकी देखभाल की जिम्मेदारी उन्हें ही दें। बच्चों का एक दूसरे से तुलना न करें और न ही उनके सामने कोई गलत काम करें, जिसे वे उसे अपनाये। समाज में स्कूल से बड़ी कोई जगह नहीं है जहां बच्चों को शिक्षित किया जा सकता है।

अगस्त तक 21 हजार शिक्षकों की होगी नियुक्ति

स्कूली शिक्षा व साक्षरता विभाग के प्रधान सचिव अमरेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि राज्य में 10वीं और प्लस टू के लिए 21 हजार शिक्षकों की नियुक्ति अगस्त महीने तक पूरी कर ली जायेगी। विभाग ने इसके लिए प्रक्रिया शुरू कर दी है। शिक्षकों की कोई कमी नहीं रहेगी। प्राइवेट स्कूलों की तर्ज पर एक सरकारी स्कूल में भी 1000 बच्चे होंगे और वहां 15-20 शिक्षक रहेंगे इसकी व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने कहा की गर्मी छुट्टी के बाद स्कूलों में लर्निंग आउटकम होगा, वहीं हर तीन महीने पर स्कूलों की ग्रेडिंग की जायेगी। समग्र शिक्षा में 250 बच्चों से ज्यादा वाले स्कूलों को अब 10 हजार की जगह 75 हजार रुपये मिलेंगे।

212 स्कूलों हुए सम्मानित

स्वच्छता में सबसे बेहतर काम करने वाले राज्य के 212 स्कूलों को फाइव स्टार मिले हैं। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने ऐसे स्कूलों को प्रशस्ती पत्र और एक-एक लाख रुपये का चेक दिया। इनमें से 40 स्कूलों का चयन राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कार के लिए किया गया है। वहीं, करीब 2000 स्कूलों को फोर स्टार मिला है, जिन्हें 50-50 हजार रुपये दिये जायेंगे। मुख्यमंत्री पश्चिमी सिंहभूम के उपायुक्त समेत राजकीय आदर्श मध्य विद्यालय नोवामुंडी चाईबासा, उत्क्रमित मध्य विद्यालय मालीपलगंजिया गोड्डा, प्राथमिक विद्यालय गोपालपुर जसीडीह देवघर, राजेंद्र उच्च विद्यालय जारंडी बोकारो और कस्तूरबा बालिका आवासीय विद्यालय टोंटो, चाईबासा को सम्मानित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Every district of Jharkhand will become ODF: CM