ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड रांचीखूंटी और तोरपा में पेयजल संकट, टैंकर से बांटा जा रहा है पानी

खूंटी और तोरपा में पेयजल संकट, टैंकर से बांटा जा रहा है पानी

भीषण गर्मी के कारण जिले के ग्रामीण इलाकों के साथ अब शहरी इलाकों में भी पेयजल संकट गहरा गया है। खूंटी के तजना वियर सूख जाने के कारण पुरानी व्यवस्था...

खूंटी और तोरपा में पेयजल संकट, टैंकर से बांटा जा रहा है पानी
हिन्दुस्तान टीम,रांचीSun, 16 Jun 2024 01:45 AM
ऐप पर पढ़ें

खूंटी, तोरपा, हिटी। भीषण गर्मी के कारण जिले के ग्रामीण इलाकों के साथ अब शहरी इलाकों में भी पेयजल संकट गहरा गया है। खूंटी के तजना वियर सूख जाने के कारण पुरानी व्यवस्था के तहत जलापूर्ति ठप हो गई है। शहर में पेयजल संकट को टालने की कोशिश में नगर पंचायत जुटा हुआ है। शनिवार को शहर के विभिन्न मुहल्लों में कुल 13 टैंकर पानी वितरित किया गया। यह पानी नगर भवन और सेनिटेशन पार्क के बोरिंग से टैंकरों में भरा जा रहा है। जब तक बारिश नहीं हो जाती है, शहर में पेयजल समस्या के स्थाई सामाधान के आसार नहीं हैं।
उधर तोरपावासी भी दिनों गंभीर पेयजल संकट से जुझ रहे हैं। पिछले एक महीने से जलापूर्ति ठप रहने से पेयजल संकट गहरा गया है। तोरपा शहरी क्षेत्र के करीब 2100 परिवार को सप्लाई का पानी नही मिल रहा है। जलापूर्ति बाधित रहने से लोगों को काफी परेशानी हो रही है। सुबह से ही लोग पानी के जुगाड में लग जाते हैं। इधर गंभीर पेयजल संकट को देखते हुए पेयजल एवं स्वच्छता विभाग ने शनिवार को साहू मुहल्ला, मस्जिद गली में टैंकर से जलापूर्ति की। टैंकर पहुंचते ही पानी भरने वालों की कतार लग गयी। इधर लोगों का कहना है कि तोरपा में पहली बार टैंकर से जलापूर्ति की जा रही है। तोरपा में पानी की इतनी गंभीर समस्या खड़ी होगी किसी ने कल्पना तक नहीं की थी। तोरपा चारों ओर से नदियों से घिरा है। कारो, छाता नदी कभी सूखती नहीं थी। इस बार नदी तालाब सूख गये हैं। लोगों का मानना है नदियों से बड़े पैमाने पर बालू का अवैध खनन नदियों के सूखने कर प्रमुख कारण है। इस पर रोक नहीं लगायी गयी तो आनेवाला समय भयावह होगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।