ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड रांचीअभियान चलाकर नदी को बचाने का लिया निर्णय

अभियान चलाकर नदी को बचाने का लिया निर्णय

जनशक्ति से जलशक्ति अभियान से जुड़े नदी बचाओ अभियान के तहत तहत रविवार को माहिल गांव में ग्रामसभा की बैठक ग्राम प्रधान हराधन मुंडा की अध्यक्षता में...

अभियान चलाकर नदी को बचाने का लिया निर्णय
हिन्दुस्तान टीम,रांचीMon, 12 Feb 2024 06:15 PM
ऐप पर पढ़ें

मुरहू, प्रतिनिधि। जनशक्ति से जलशक्ति अभियान से जुड़े नदी बचाओ अभियान के तहत तहत रविवार को माहिल गांव में ग्रामसभा की बैठक ग्राम प्रधान हराधन मुंडा की अध्यक्षता में हुई, जिसमें गानालोया पंचायत के मुखिया दानियल डुंगडुंग, हांसा के उपमुखिया बिरसा मुंडा समेत आसपास के गांवों के लोग शामिल हुए। बैठक में नदी के अतीत पर चर्चा करते हुए बुजुर्गों ने बताया कि वर्षों पहले बरसात के दिनों में नदी के पानी के साथ बालू भी बहकर खेतों में आ जाया करता था। नदी में सालोंभर पर्याप्त पानी का बहाव रहता था। आसपास दलदल जमीन हुआ करती थी, मछलियों की भी कमी नहीं होती थी। कुंओं का जलस्तर उपर होता था, 50 से 100 फीट बोरिंग करने पर पानी मिल जाता था। मार्च के महीने तक गांव के खेतों में पानी रहता था। बरसात के दिनों में लोगों के घरों के चूल्हों और फर्श तक पानी आ जाता था।

नदी की वर्तमान स्थिति पर बोलते हुए गांव के प्रबुद्ध लोगों ने कहा कि अब नदी अपनी सतह से लगभग 12 फीट नीचे चली गई है। दलदल जमीनें खत्म हो चुकीं हैं। मछलियां भी नहीं मिलतीं। अधिकांश कुंओं का पानी गर्मी के दिनों में सूख जाता है। 60 से 70 प्रतिशत चापानल बेकार हो गए हैं। अब बोरिंग से पानी चाहिए तो 50 से 100 फीट की जगह 800 से 1000 फीट बोरिंग करना पड़ता है। नदी में पानी नहीं रहने से खेती-बारी के कामकाज बुरी तरह प्रभावित हो रहे हैं।

गांव के युवाओं ने भविष्य की स्थिति पर चर्चा करते हुए कहा कि अगर नदी को नहीं बचाया गया और जल संरक्षण के उपाय नहीं किए गए, तो आने वाले 15 वर्षों के बाद गांव के लोगों को पानी के घोर संकट से गुजरना पड़ेगा। बैठक में बनई नदी पर जगह-जगह बोरी बांध बनाने और नदी के किनारे फलदार और कीमती लकड़ियों के पेड़ लगाने पर चर्चा की गई।

बड़े पैमाने पर अभियान चलाने पर चर्चा:

बैठक में चर्चा की गई कि नदी के बचाने के लिए बड़ा अभियान चलाया जागा। इसके लिए एक बैठक पुन: 18 फरवरी को एक बैठक माहिल में आयोजित करने का निर्णय लिया गया। ग्रामप्रधान हराधन मुंडा ने बैठक में कहा कि उनके द्वारा आसपास के ग्रामप्रधानों को पत्र लिखकर बैठक में शामिल होने का अनुरोध किया जाएगा। अगली बैठक में हांसा व गनालोया पंचायत के विभिन्न गांवों के ग्रामसभा के लोगों को भी बुलाया जाएगा। बैठक में जगन्नाथ मुंडा मागो मुंडा, महावीर महतो, सूरज महतो, नमीत नाग, दयानन्द मांझी समेत अन्य ग्रामीण शामिल हुए।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें