DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नम आंखों से दी गई आईपीएस प्रवीण सिंह को अंतिम विदाई- VIDEO

नम आंखों से दी गई आईपीएस प्रवीण सिंह को अंतिम विदाई

1 / 3झारखंड कैडर के आईजी प्रवीण सिंह को नम आंखों से विदाई दी गई। सोमवार की सुबह 11 बजे प्रवीण सिंह का शव एयर एंबुलेंस से दिल्ली से रांची लाया गया। यहां लाए जाने के बाद शव को जैप ग्राउंड ले जाया...

नम आंखों से दी गई आईपीएस प्रवीण सिंह को अंतिम विदाई

2 / 3झारखंड कैडर के आईजी प्रवीण सिंह को नम आंखों से विदाई दी गई। सोमवार की सुबह 11 बजे प्रवीण सिंह का शव एयर एंबुलेंस से दिल्ली से रांची लाया गया। यहां लाए जाने के बाद शव को जैप ग्राउंड ले जाया...

नम आंखों से दी गई आईपीएस प्रवीण सिंह को अंतिम विदाई

3 / 3झारखंड कैडर के आईजी प्रवीण सिंह को नम आंखों से विदाई दी गई। सोमवार की सुबह 11 बजे प्रवीण सिंह का शव एयर एंबुलेंस से दिल्ली से रांची लाया गया। यहां लाए जाने के बाद शव को जैप ग्राउंड ले जाया...

PreviousNext

झारखंड कैडर के आईजी प्रवीण सिंह को नम आंखों से विदाई दी गई। सोमवार की सुबह 11 बजे प्रवीण सिंह का शव एयर एंबुलेंस से दिल्ली से रांची लाया गया। यहां लाए जाने के बाद शव को जैप ग्राउंड ले जाया गया। जहां राज्य पुलिस की तरफ से श्रद्धांजलि दी गई।

श्रद्धांजलि दिए जाने के बाद शव को सेक्टर तीन स्थित आवास ले जाया गया। शाम 3.30 बजे शव को हरमू मुक्तिधाम लाया गया। जहां उनके बड़े बेटे प्रणय ने उन्हें मुखाग्नि दी। मौके पर प्रवीण सिंह के ससुर व यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री जगदंबिका पाल, पूर्व सांसद सुबोधकांत सहाय, आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो, डीजी नीरज सिन्हा, सीआईडी एडीजी प्रशांत सिंह, आईएएस अधिकारी केके सोन, अजय कुमार, विनय कुमार चौबे, डीआईजी अमोल वी होमकर, एसएसपी कुलदीप द्विवेदी, सीबीआई एसपी पंकज कंबोज समेत कई अधिकारी व हजारों लोग मौजूद थे। रविवार को दिल्ली के साकेत स्थित मैक्स अस्पताल में प्रवीण सिंह की लंबी बीमारी के बाद मौत हो गई थी।

पत्नी-बेटे का रो रोकर था बुरा हाल

दिन के 11.15 बजे प्रवीण सिंह का तिरंगे में लिपटा शव जैप ग्राउंड लाया गया। शव के साथ पहुंची प्रवीण सिंह की पत्नी पूजा सिंह फफक कर रो पड़ीं। पूजा को बार-बार उनके पिता जगदंबिका पाल संभालने की कोशिश कर रहे थे। प्रवीण सिंह को श्रद्धांजलि देने के दौरान वह भी रो पड़े। राज्य के आईपीएस अधिकारियों की पत्नियां किसी तरह पूजा सिंह, छोटे बेटे प्रांजल को संभालने की कोशिश कर रही थीं। हालांकि रह-रह कर उनके रोने की आवाज से माहौल गमगीन हो रहा था। मौके पर प्रवीण कुमार का शव देख रांची एसएसपी कुलदीप द्विवेदी, आईएएस अधिकारी पूजा सिंह, हिमानी पांडेय की आंखें नम हो गई थीं। जैप ग्राउंड में पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, नगर विकास मंत्री सीपी सिंह, स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी, मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी, गृह सचिव एसकेजी रहाटे, डीजीपी डीके पांडेय, एडीजी अनुराग गुप्ता, प्रशांत सिंह, अनिल पाल्टा, अजय कुमार सिंह, पीआरके नायडू, आईजी आशीष बत्रा, डीआईजी अमोल वी होमकर, एसपी क्रांति कुमार गणदेशी, असीम विक्रांत मिंज, सुनील भास्कर ने प्रवीण सिंह को श्रद्धांजलि दी।

आईपीएस एसोसिएशन ने जताया शोक

1998 बैच के आईपीएस अधिकारी प्रवीण सिंह की मौत के बाद झारखंड पुलिस मुख्यालय में सोमवार को शोकसभा का आयोजन किया गया। इस दौरान दो मिनट का मौन रख पुलिस अधिकारियों ने उनकी आत्मा की शांति की प्रार्थना की। आईपीएस एसोसिएशन के झारखंड चैप्टर ने भी प्रवीण सिंह की मौत पर शोक जताया है।

डटे रहे रांची डीआईजी-एसएसपी

प्रवीण सिंह को अंतिम विदाई देने तक रांची डीआईजी अमोल वी होमकर व रांची एसएसपी कुलदीप द्विवेदी डटे रहे। रांची पुलिस की तरफ से एयरपोर्ट से लेकर जैप ग्राउंड व प्रवीण सिंह के सेक्टर स्थित आवास तक सारी तैयारियां की गई थीं। दोनों पुलिस अधिकारी सुबह 10 बजे से ही अंतिम विदाई की तैयारियों में जुटे थे।

झारखंड में कई प्रमुख पदों पर किया काम

प्रवीण कुमार सिंह वर्तमान में केंद्रीय प्रतिनियुक्त पर डीआईजी एनआईए के पद पर कार्यरत थे। इससे पहले वह भारी उद्योग मंत्रालय में निदेशक थे। 1998 में बहाली के बाद हैदराबाद में ट्रेनिंग पूरी की। इसके बाद भागलपुर में उन्होंने बेसिक ट्रेनिंग ली। झारखंड राज्य गठन के बाद वह झारखंड कैडर में आ गए। इस दौरान वह राज्यपाल के एडीसी, बेरमो और पलामू में एसडीपीओ रहे। बाद में वह सिमडेगा, चाईबासा, पलामू, हजारीबाग में एसपी और रांची में एसएसपी रहे। रांची डीआईजी, एसटीएफ, वायरलेस में डीआईजी के तौर पर उन्होंने सेवाएं दीं। आईजी में प्रमोशन के बाद वह एसटीएफ में आईजी रहे थे। साल 2016 में वह केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर चले गए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:cremation to IPS Praveen Singh with a damp eyes