ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड रांचीकांग्रेस ने राष्ट्रपति पर दबाव देकर आपातकालीन की घोषणा की थी : बालमुकुंद सहाय

कांग्रेस ने राष्ट्रपति पर दबाव देकर आपातकालीन की घोषणा की थी : बालमुकुंद सहाय

भाजपा के जिला कार्यालय में जिलाध्यक्ष चन्द्रशेखर गुप्ता की अध्यक्षता में मंगलवार को आपातकाल के विरोध में काला दिवस मनाया गया। कार्यक्रम में मुख्य...

कांग्रेस ने राष्ट्रपति पर दबाव देकर आपातकालीन की घोषणा की थी : बालमुकुंद सहाय
हिन्दुस्तान टीम,रांचीWed, 26 Jun 2024 01:45 AM
ऐप पर पढ़ें

खूंटी। भाजपा के जिला कार्यालय में जिलाध्यक्ष चन्द्रशेखर गुप्ता की अध्यक्षता में मंगलवार को आपातकाल के विरोध में काला दिवस मनाया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि प्रदेश उपाध्यक्ष बालमुकुंद सहाय उपस्थित थे।
उन्होंने अपने सम्बोधन में कहा कि जब हाईकोर्ट ने इंदिरा गांधी को चुनाव में मिली जीत को असंवैधानिक करार दिया। जिससे उन्हें छह साल चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। जिससे कांग्रेस दबाव में आकर एक आंतरिक बैठक की। इसी बीच विपक्ष के दबाव और हाईकोर्ट के आदेश से उन्हें समझ नहीं आ रहा था कि ऐसी परिस्थिति में सत्ता में कैसे बने रहे। उन्होंने आनन- फानन में 25 जून की मध्य रात्रि को राष्ट्रपति पर दबाव देकर आपातकालीन घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर करा लिया। उसके बाद लाखों लोगों की गिरफ्तारी होने लगी। 1975 में जो मानसिकता कांग्रेस की थी वही मानसिकता आज भी है। इस लोकसभा चुनाव में भी लोगों को छलने का काम किया है। महिलाओं को 8500 प्रतिमाह देने का वादा किया है। लेकिन जिस जिस राज्य में कांग्रेस की सरकार है, वहां की महिलाओं को रुपये नहीं मिल रहे हैं।

वहीं तोरपा विधायक कोचे मुंडा ने कहा कि जिन लोगों ने इस लोकसभा चुनाव में संविधान को बदलने वाला दुष्प्रचार किया, वही लोग 25 जून 1975 को अपनी निजी स्वार्थ के लिए देश में आपातकाल लागू किया था। आपातकाल के समय सरना समाज के द्वारा चलाए जा रहे संस्था को भी बंद कर दिया गया था। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी शुरू से ही आदिवासी विरोधी रही है। जिलाध्यक्ष चन्द्रशेखर गुप्ता ने कहा कि आज विपक्षी पार्टियां संविधान बदलेगा ऐसा दुष्प्रचार कर लोगों को बरगलाने का काम कांग्रेस ने किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अपनी सरकार बचाने और निजी हित के लिए आपातकाल लागू किया। किसी भी नागरिक की स्वतंत्रता नहीं थी। स्वतंत्र भारत के इतिहास में सबसे विवादास्पद और अलोकतांत्रिक काल था

इस दौरान कार्यक्रम में आपातकाल काल में जेल यात्रा में शामिल सभी वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया गया। मौके पर जनसंघी कैलाश महतो ने आपातकाल के समय किए अपने जेल यात्रा के अनुभव को साझा किया। इससे पूर्व काला दिवस कार्यक्रम संयोजक सह जिला उपाध्यक्ष संजय साहू ने स्वागत भाषण दिया। मंच संचालन जिला महामंत्री बिनोद नाग एवं धन्यवाद ज्ञापन मण्डल अध्यक्ष मदन मोहन गोप ने किया। कार्यक्रम के बाद एक वृक्ष मां के नाम अभियान के तहत एक पेड़ जिला कार्यालय में लगाया गया।

कार्यक्रम में प्रदेश उपाध्यक्ष सह खूंटी विधायक नीलकंठ सिंह मुंडा, जिला सोशल मीडिया प्रभारी रूपेश जयसवाल, सह प्रभारी महावीर राम, मिडिया सह प्रभारी जनार्दन मिश्रा, आईटी संयोजक गुलाब महतो, मण्डल अध्यक्ष, प्रदेश युवा मोर्चा कार्यकारिणी सदस्य प्रियांक भगत, महिला मोर्चा अध्यक्ष रंदाय नाग, मदन मोहन मिश्रा सहित अनेक सम्मानित कार्यकर्ता उपस्थित थे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।