DA Image
27 अक्तूबर, 2020|11:38|IST

अगली स्टोरी

कंपनी हित में कोलकर्मियों को वापस लेना चाहिए हड़ताल: सीएमडी

default image

कॉमर्शियल माइनिंग को मंजूरी समेत केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ केंद्रीय श्रमिक संगठन एटक, बीएमएस, एचएमएस, इंटक और सीटू ने कोयला उद्योग में दो से चार जुलाई तक तीन दिवसीय हड़ताल करने का निर्णय लिया है। इधर, सीसीएल सीएमडी गोपाल सिंह ने कंपनी हित में हड़ताल नहीं करने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में हड़ताल पर जाने वाले कर्मचारियों के स्वास्थ्य और कंपनी की आर्थिक स्थिति के लिए नकारात्मक है। सीएमडी सिंह ने कहा कि वर्तमान में सभी कंपनियों में कोयला उत्पादन की रफ्तार तेजी पकड़ रही है। ऐसे में कोयला कंपनियों में किसी भी तरह का कार्य रुकने से एक बहुत बड़ी क्षती हो सकती है। देश की ऊर्जा की जरूरतों को पूरा करने के सभी प्रयासों पर प्रभाव पड़ सकता है। इस मद्देनजर कोई भी व्यवधान राष्ट्र की प्रगति में एक प्रतिकूल कदम होगा। कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत हमनें जो कोयला आयात समाप्त करने का लक्ष्य चुना है वह भी इस हड़ताल से प्रभावित होगा। उन्होंने सभी कर्मियों और श्रमिक संघों से आग्रह किया है कि इस समय देश कोरोना वायरस महामारी के कारण पिछले कई महीनों से अत्यंत विषम परिस्थितियों का सामना कर रहा है। इस परिस्थिति में पुनर्विचार कर हड़ताल को वापस लेना चाहिए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Coal workers should be withdrawn in company interest CMD