DA Image
21 अक्तूबर, 2020|7:57|IST

अगली स्टोरी

सीएनआई ने सही ठहराया बिशप बास्के द्वारा लिया गया निर्णय

default image

छोटानागपुर डायसिस के बिशप बीबी बास्के द्वारा लिए गए निर्णय को सीएनआई (चर्च ऑफ नार्थ इंडिया) सिनोड ने सही ठहराया है। इस संबंध में सिनोड दिल्ली के महासचिव रेव्ह एसडी लाल ने छोटानागपुर डायसिस के लिए गठित मॉडरेटर कमिश्नरी रेव्ह जोलजस कुजूर को पत्र भेजा है। इसमें कहा गया है कि 10 जुलाई 2020 को सिनोड ने जो पत्र जारी किया था, उसे वापस लेते हैं जिसमें बिशप द्वारा प्रोफेसर जयंत अग्रवाल को डायसिस के सभी पदों से हटाए जाने पर रोक लगाई गई थी और फैक्ट फाइंडिंग कमेटी के आने तक डायसिस के निर्णय को कुछ दिनों तक रोके जाने की बात कही थी।

परंतु अब सिनोड ने स्पष्ट कर दिया कि डायसिस का निर्णय सही है और सिनोड की ओर से कोई भी जांच दल छोटानागपुर डायसिस नही जाएगा। साथ ही सीएनआई मेल-मिलाप की दिशा में काम करेगा। ज्ञात हो कि जयंत अग्रवाल को लेकर पूरे डायसिस में असंतोष पनप गया था। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए बिशप ने जयंत को डायसिस के 18 पदों से हटा दिया था। इसके बाद सिनोड ने डायसिस के इस निर्णय पर आपत्ति दर्ज की थी। परंतु इस अपत्ति को सिनोड ने वापस ले लिया और जयंत अग्रवाल के मामले में डायसिस और बिशप द्वारा लिए गए निर्णय को कलीसिया हित में सही ठहराया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:CNI justifies decision taken by Bishop Baske