DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिमडेगा में डायन बिसाही में चाचा-दादी की हत्या

सिमडेगा में डायन बिसाही में चाचा-दादी की हत्या

सिमडेगा में शनिवार को अंधविश्वास की आग में एक महिला समेत दो व्यक्ति की जान चली गई। हत्या का आरोप मृतक के भतीजे पर लगा है। जानकारी के अनुसार सदर थाना के कुदरूम टुंबारुपू गांव निवासी रमेश सिंह ने अपने चाचा राम कुंवर सिंह और परिवार की एक महिला बिरसमनी देवी (रिश्ते में दादी) की लाठी से पीट पीट कर हत्या कर दी। वही आरोपित ने मृतक राम कुंवर सिंह की पत्नी कलावती देवी और उनकी ननद कांति देवी के सिर का बाल भी काट दिया है। मृतक राम कुंवर की पत्नी कलावती के बयान पर मामला दर्ज कर पुलिस ने रमेश सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। बताया जाता है कि आरोपित रमेश राम कुंवर सिंह का भतीजा है। और रमेश को शक था कि उक्त चारों ने डायन बिसाही के बल पर उसे बीमार कर दिया है। जिससे आवेश में आकर उसने घटना को अंजाम दिया।आम तौर पर अशिक्षित लोगों को अंधविश्वास से ग्रसित समझा जाता है। लेकिन रमेश शिक्षित है। उसने सिमडेगा स्थित गुरुकुल में कारपेंटर का प्रशिक्षण लिया है। प्रशिक्षण के बाद बेंगलुरू में एक कंपनी में नौकरी कर रहा था। वर्तमान में रमेश छुटटी लेकर घर आया हुआ था। अंधविश्वास से ग्रसित रमेश सिंह के चेहरे पर हत्या करने का कोई सिकन नजर नहीं आ रह था। पुलिस ने आरोपी रमेश से जब हत्या के कारण के संबंध में पुछताछ की। तो रमेश के जवाब से सभी लोग स्तब्ध हो गए थे। रमेश ने पुलिस को बताया कि उसके चाचा राम कुंवर सिंह, दादी बिरसमनी देवी, चाची कलावती देवी एवं कांति देवी चारो डायन है। और जादू टोना से उसके शरीर के पूरे ताकत को खत्म कर दी थी। रमेश ने बताया कि उक्त चारो सपने में आकर भी डराती थी। इसके बाद उसने उन्हें मारने का फैसला किया। मौका मिलते ही उसने चाचा रामकुंवर और दादी बिरसमनी देवी की हत्या कर दी। हत्या करने के बाद चाची कलावती देवी और फुआ कांति देवी के बाल को भी काट दिया। रमेश ने पुलिस को बताया कि हत्या के बाद उसे काफी शांति मिली और उसे लगा कि उसके शरीर की खोई ताकत वापस आ गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Chacha-grandmother killed in Witch bisah in Simdega