अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वच्छता की जिम्मेदारी सबको लेनी होगी: राज्यपाल

स्वच्छता की जिम्मेदारी सबको लेनी होगी: राज्यपाल

देशभर में स्वच्छता को लेकर जागरुकता आई है। सामूहिक भागीदारी से ही स्वच्छता लक्ष्य करना कठिन नहीं होगा। इसी संकल्प के साथ सोमवार को रांची विश्वविद्यालय के बेसिक साइंस बिल्डिंग में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने ‘स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम में शामिल होकर एनएसएस के स्वयंसेवकों को प्रेरित किया। राज्यपाल खुद भी सफाई में जुटीं। मौके पर कुलपति डॉ रमेश कुमार पांडेय, प्रति कुलपति डॉ कामिनी कुमार, एनएसएस के क्षेत्रीय निदेशक दीपक कुमार, रांची विश्वविद्यालय के एनएसएस समन्वयक डॉ पीके झा, सीसीडीसी डॉ गिरजाशंकर नाथ शाहदेव समेत अन्य मौजूद थे।राज्यपाल ने कहा कि देशभर में लगभग 50,000 संस्थाएं स्वच्छता मिशन से जुड़ी हैं। 2019 तक देश खुले में शौच से मुक्त हो जाएगा। राज्यपाल ने कहा कि युवाओं की जिम्मेदारी है कि बिरसा मुंडा और सिदो कान्हू की धरती हो सशक्त बनाएं। उन्होंने कॉलेजों और पीजी विभागों को एक-एक गांव गोद लेकर वहां के लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने और उन्हें विभिन्न सरकारी योजनाओं की जानकारी देने का सुझाव दिया।आर्कियोलॉजी व स्टूडेंट सेंटर का शिलान्यासराज्यपाल ने आर्यभट्ट सभागार के पीछे बनने वाले स्टूडेंट फेलिसिटेशन सेंटर और इतिहास विभाग के बगल में आर्कियोलॉजी सेंटर का शिलान्यास किया। स्टूडेंट फेलिसिटेशन सेंटर में कैंटीन, ऑडिटोरियम भी होंगे। 2018 तक यह बनकर तैयार हो जाएगा। नैक टीम ने भी अपने रांची विश्वविद्यालय में इन संसाधनों की कमी बताई थी। मौके पर डॉ अंजनी कुमार श्रीवास्तव, डॉ संजय मिश्र, डॉ एके चौधरी, डॉ एके चट्टोराज, लादिर उरांव, हरि उरांव, डॉ गीता ओझा व अन्य शिक्षकों के अलावा आरटीसी बीएड कॉलेज व विभिन्न पीजी विभागों के छात्राएं मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:campaign held at RU