DA Image
5 अगस्त, 2020|9:25|IST

अगली स्टोरी

मास्क नहीं लगाने पर कड़ी सजा का भाजपा ने किया विरोध

default image

मास्क नहीं पहनने पर एक लाख के जुर्माना और दो साल के जेल की सजा के प्रावधान का भाजपा ने विरोध किया है। कैबिनेट द्वारा इससे संबंधित अध्यादेश की मंजूरी को पार्टी नेताओं ने गरीब विरोधी और तुगलकी फरमान करार दिया है। साथ ही जनता से दोहन का नया रास्ता खोलने का आरोप लगाया है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने सरकार से मामले पर फिर से विचार करने की मांग की है। वहीं, पार्टी के विधायक दल नेता बाबूलाल मरांडी ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पत्र लिखा है।तुगलकी फरमान पर विचार करे सरकारः दीपक प्रकाशभाजपा प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने कहा है कि मास्क नहीं लगाने पर जुर्माने का निर्णय तुगलकी फरमान जैसा है। इससे जनता का पुलिस प्रशासन द्वारा भयादोहन होगा। सरकार का निर्णय लोक कल्याणकारी होना चाहिए न कि थोपने वाला। उन्होंने कहा कि यह सही है कि जनता द्वारा कोरोना से बचाव के सारे नियमों का अनुपालन कठोरता से कराया जाना चाहिए। लेकिन इसके लिए प्रशासन को भयादोहन का मौका नहीं देना चाहिए। प्रकाश ने कहा कि मास्क सबके लिए अनिवार्य नहीं होता। स्वस्थ व्यक्ति के लिए गमछा, रुमाल आदि से फेस को ढंकने की अनिवार्यता होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हर जगह विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में मास्क उपलब्ध नहीं होता, परंतु लोग गमछे आदि से अपना फेस अवश्य ढंकने में सक्षम हैं। सरकार को इस पर फिर से विचार करना चाहिए।भारी जुर्माना अव्यवहारिक : बाबूलाल मरांडीभाजपा विधायक दल नेता बाबूलाल मरांडी ने कहा है कि कैबिनेट की बैठक में लाए गए अध्यादेश के कुछ बिन्दुओं पर विचार करने की जरूरत है। इस संबंध में उन्होंने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पत्र लिखा। पत्र में कहा है कि बगैर मास्क पहने बाहर निकलने और सोशल डिस्टेंसिंग के उल्लंघन पर भारी जुर्माना और कड़ी सजा का प्रावधान पूरी तरह अव्यवहारिक है। उन्होंने कहा कि कोरोना पर अंकुश लगे, यह सबकी प्राथमिकता और चाहत है। इसकी सख्ती के नाम पर राज्य की जनता के दोहन के दरवाजे खोलने की इजाजत नहीं मिलनी चाहिए। राज्य में अधिकांश आबादी गांव और अनुमंडल स्तर पर बसती हैं, जहां बहुतायत गरीब होते हैं। ऐसे में इतना भारी अर्थदंड और कड़ी सजा उचित नहीं ठहराए जा सकते हैं। ऐसा नहीं हो कि इस कानून की आड़ में पुलिस के लिए कमाई का एक बड़ा, सहज और सुलभ जरिया खुल जाए। कुछ राज्यों में मास्क नहीं पहनने पर सरकार ने महज 50 रुपये का जुर्माना लगाया है, साथ ही दो मास्क भी मुफ्त में देने का प्रावधान किया गया है। उन्होंने मुख्यमंत्री से फिर से इस पर विचार कर निर्णय लेने का आग्रह किया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:BJP opposes severe punishment for not applying mask