DA Image
2 अगस्त, 2020|11:22|IST

अगली स्टोरी

शराब पीने के दौरान हुए विवाद में एएसआई की पत्थर से कूचकर की थी हत्या

default image

रांची पुलिस ने एएसआई कामेश्वर रविदास की हत्या की गुत्थी सुलझा ली है। इस मामले में पुलिस ने पांच अपराधियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार अपराधियों में अजीत तिर्की, सावन उरांव, स्टीफन, जगतपाल और भोला शामिल हैं। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 31 जुलाई की सुबह से ही तुपुदाना इलाके के बेरमाद महुआटोली में एएसआई कामेश्वर रविदास घूम-घूमकर शराब पी रहे थे। उसी दिन शाम में एएसआई ने बेरमाद के एक घर पर मुर्गा बनवाया। मुर्गा और शराब लेकर वह कुछ साथियों के साथ महुआ टोली स्थित स्कूल के बरामदे में बैठकर शराब पी रहे थे। शराब पीने के दौरान एएसआई और उक्त अपराधियों के बीच किसी बात को लेकर विवाद हुआ था। दोनों के बीच तू-तू, मैं-मैं के बाद हाथापायी होने लगी। इसी क्रम में एक अपराधी ने उनके सिर पर पत्थर से मार दिया, जिससे एएसआई जमीन पर गिर गए। हत्या की नीयत से अपराधियों ने उन्हें फिर से पत्थर से मारा। इसके बाद उन्हें मरा हुआ समझकर उनके शव को 100 फीट गहरी खदान में फेंक दिया। इस वारदात को अंजाम देने के बाद अपराधियों ने साक्ष्य मिटाने की नीयत से बरामदे को भी पानी से धो दिया था। हालांकि पुलिस ने इसकी पुष्टि नहीं की है। उम्मीद है कि सोमवार को पुलिस इस हत्याकांड का खुलासा कर सकती है। एक अगस्त को मिला था एएसआई का शवतुपुदाना इलाके के बेरमाद महुआटोली स्थित पत्थर की खदान से एक अगस्त की सुबह एएसआई कामेश्वर का शव पुलिस ने बरामद किया था। इसके बाद तुपुदाना पुलिस ने घटनास्थल को खंगालना शुरू किया। खदान के ऊपर में ही स्थित उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय के बरामदे में खून के निशान मिले थे। इसी आधार पर पुलिस ने पड़ताल शुरू की। एक महिला समेत दर्जनभर लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की। इसके बाद पुलिस अपराधियों तक पहुंच पायी। अन्य लोगों को पुलिस ने पीआर बांड पर छोड़ दिया है। मार्च से लालू की सुरक्षा में थे तैनातवर्ष 2016 में कामेश्वर रविदास की तुपुदाना ओपी इलाके में टाइगर जवान के रूप में पोस्टिंग हुई थी। वर्ष 2019 में एएसआई के पद पर प्रमोशन हुआ था। प्रमोशन के बाद तुपुदाना थाने में ही ड्यूटी पर थे। मार्च के अंतिम सप्ताह में एएसआई को रिम्स के कोविड टीम में पदस्थापित किया गया था और अलग-अलग स्थान पर ड्यटी मिलती थी। इस क्रम में कुछ दिन लालू प्रसाद के वार्ड के बाहर भी वह पदस्थापित हुए थे। एएसआई का एक कमरा तुपुदाना थाने में ही था। एएसआई कामेश्वर रविदास बिहार के नालंदा जिले के राजगीर के पास स्थित सिलाव थाना क्षेत्र के सिरियुपुर गांव के मूल निवासी थे। वर्ष 2000 में झारखंड पुलिस में इनकी नियुक्ति हुई थी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:ASI was beaten to death in a dispute over drinking