DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  रांची  ›  हॉर्स ट्रेडिंग 2016 मामले में पीसी एक्ट की धारा जोड़ने के लिए अर्जी

रांचीहॉर्स ट्रेडिंग 2016 मामले में पीसी एक्ट की धारा जोड़ने के लिए अर्जी

हिन्दुस्तान टीम,रांचीPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 06:10 PM
हॉर्स ट्रेडिंग 2016 मामले में पीसी एक्ट की धारा जोड़ने के लिए अर्जी

बढ़ेंगी मुश्किलें :::::::::::::::::::::::

मामला पूर्व एडीजी अनुराग गुप्ता और अजय कुमार से जुड़ा

बुधवार को हो सकती है सुनवाई, आरोपियों की मुश्किलें बढ़ेंगी

रांची। संवाददाता

पूर्व एडीजी अनुराग गुप्ता और पूर्व सीएम रघुवर दास के पूर्व प्रेस सलाहकार अजय कुमार के खिलाफ वर्ष 2018 में दर्ज हॉर्स ट्रेडिंग के मामले में जल्द ही नया मोड़ आ सकता है। जगन्नाथपुर थाने में दर्ज इस चर्चित मामले के जांच अधिकारी ने मंगलवार को अदालत में प्रीवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट की धारा जोड़ने का आवेदन दिया है। जांच अधिकारी ने आवेदन को ड्रॉप बॉक्स में डाला है। जिस पर सुनवाई बुधवार को हो सकती है।

अदालत से अनुमति मिलते ही मामले में पीसी एक्ट की धाराओं को जोड़ा जाएगा। पीसी एक्ट लगते ही आरोपियों की मुश्किलें बढ़ जाएंगी। आगे की जांच अब भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) करेगा। साथ ही मामले की सुनवाई न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत से स्थानांतरित होकर एसीबी की विशेष अदालत में चली जाएगी, जहां आगे की सुनवाई होगी। वर्तमान में उक्त मामले की सुनवाई प्रथम श्रेणी के न्यायिक दंडाधिकारी अनुज कुमार की अदालत में चल रही है। मिली जानकारी के अनुसार मामले के अनुसंधान की कार्रवाई के दौरान ही जांच अधिकारी को इस बात का एहसास हुआ कि दोनों आरोपियों ने अपने-अपने उच्च पद का दुरुपयोग किया है। ऐसी परिस्थिति में पीसी एक्ट की धाराओं का जोड़ा जाना विधि सम्मत है। इस संबंध में अभियोजन स्वीकृति का आदेश संबंधित उच्च पदाधिकारी से प्राप्त हो चुका है। बता दें कि 2016 के राज्य सभा चुनाव के दौरान एक राजनीतिक दल के पक्ष में खड़े प्रत्याशी के पक्ष में वोट करने के लिए बड़कागांव के तत्कालीन विधायक निर्मला देवी को प्रलोभन दिया गया था। साथ ही उनके पति पूर्व मंत्री योगेंद्र साव को धमकी भी दी गई थी।

संबंधित खबरें