DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड में अखड़ा व आदिवासी संस्कृति बचाना जरूरी : राज्यपाल

राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा है कि अखड़ा और आदिवासी संस्कृति को बचाना बेहद जरूरी है। अखरा और झारखंड की सांस्कृतिक विरासत को तकनीकी रूप से विकसित किया जाए, ताकि लोगों का रुझान अपनी संस्कृति की ओर बढ़े।  राज्यपाल गुरुवार को मुकुंद नायक (पद्मश्री) के नेतृत्व में मिलने गये प्रतिनिधिमंडल के साथ विमर्श कर रही थीं। राज्यपाल से मिलने वालों में मिशन ब्लू के अध्यक्ष पंकज सोनी, एमएन फाउंडेशन के अध्यक्ष नंदलाल नायक और झारखंडी लोकगीत पर रिसर्च कर रहे प्रो. सेराक्यूस यूनिवर्सिटी, यूएसए के डॉ केरोल एम बेबोरॉकी शामिल थे। 
इस मौके पर पंकज सोनी ने राज्यपाल को मिशन ब्लू का मोमेंटो भेंट किया उन्होंने राज्यपाल को प्रदेश में पानी की स्थिति से भी अवगत कराया। श्रीमती मुर्मू ने इस विषय पर गंभीर चिंता व्यक्त की। अखरा और झारखड की सांस्कृतिक विरासत को बचाने में पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया। उन्होंने मुकुंद नायक, एमएन फाउंडेशन और मिशन ब्लू द्वारा चलाए जा रहे अभियान की भी सराहना की। इसके साथ ही झारखंड सरकार के समक्ष इस संदर्भ मे ठोस कदम उठाने के लिए संबंधित मंत्रालय से बात करने का भी आश्वासन दिया। अखरा और संस्कृति संबंधित वोकेशनल ट्रेनिंग तथा पाठयक्रम में शामिल करने के विषय में भी सकरात्मक बातें हुईं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Akhara and tribal culture must be saved: Governor