अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवंबर तक तैयार हो जाएगा एयर ट्रैफिक कंट्रोल भवन

बिरसा मुंडा एयरपोर्ट के उड़ानों को इस साल भी पुराने एयर ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम (एटीसी )पर ही निर्भर होना पड़ेगा। एयरपोर्ट के अंदर बन रहा नया एटीसी बिल्डिंग इस साल के अंत तक बनकर तैयार होगा। इस भवन का ढांचा खड़ा हो गया है। लेकिन इसमें एटीसी के नए उपकरणों को स्थापित करने में यह साल भी गुजर सकता है। फिलहाल रांची आवाजाही करनेवाली उड़ानों को पुराने एटीसी से ही नियंत्रित किया जाएगा। नए टर्मिनल से छोटा है मौजूदा एटीसी 26 मार्च 2013 को अंतर्राष्ट्रीय टर्मिनल के नए भवन का उदघाटन हुआ। इसकी ऊंचाई पुराने एटीसी के आड़े आ गया। इससे पुराने एटीसी से रनवे की पूरी निगरानी नहीं हो पाती। इसके लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी फायर बिल्डिंग में अपने दो अधिकारियों को तैनात कर रखा है। जो विमानों के लैंडिंग और टेकऑफ के समय रनवे की स्थिति से एटीसी को अवगत कराते हैं। इसके अलावा विमानों के लैंडिंग और उड़ान भरने से पहले रनवे निरीक्षण के लिए गश्त भी लगायी जाती है। अत्याधुनिक होगा नया एटीसी नया एटीसी टावर 37 मीटर ऊंचा होगा। इससे पूरे एयरपोर्ट परिसर की निगरानी होगी। रनवे का हर हिस्सा इसकी निगरानी की जद में होगा। इसमें अंतर्राष्ट्रीय स्तर के ऑटोमेशन और नेविगेशन सिस्टम लगाए जाएंगे। रनवे लाइटिंग सिस्टम को और बेहतर किया जाएगा। इससे एटीसी और विमान के पायलट के बीच बेहतर तालमेल होगा और लैंडिंग-टेकऑफ और बेहतर होगा। एयर कंट्रोल टावर के नए उपकरण नवंबर के बाद आएंगे। एयरपोर्ट के निदेशक अनिल विक्रम के अनुसार नवंबर तक एटीसी भवन बनकर तैयार हो जाएगा। इसके बाद एटीसी के उपकरणों को लगाने का काम किया जाएगा। ये उपकरण अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप होंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Air traffic control building will be ready by November