DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाबा कार्तिक के संकल्पों को पूरा करे आदिवासी समाज

बाबा कार्तिक के संकल्पों को पूरा करे आदिवासी समाज

1 / 2अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद ने रविवार को हेहल स्थित परिषद कार्यालय में प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन किया। इसमें 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा में प्रथम श्रेणी मे उत्तीर्ण 130 आदिवासी...

बाबा कार्तिक के संकल्पों को पूरा करे आदिवासी समाज

2 / 2अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद ने रविवार को हेहल स्थित परिषद कार्यालय में प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन किया। इसमें 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा में प्रथम श्रेणी मे उत्तीर्ण 130 आदिवासी...

PreviousNext

अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद ने रविवार को हेहल स्थित परिषद कार्यालय में प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन किया। इसमें 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा में प्रथम श्रेणी मे उत्तीर्ण 130 आदिवासी छात्र-छात्राओं को स्व कार्तिक उरांव प्रतिभा सम्मान से सम्मानित किया गया। सम्मान स्वरूप मेडल और प्रमाण पत्र देकर उन्हें पुरस्कृत किया गया। मुख्य अतिथि पूर्व शिक्षा मंत्री गीताश्री उरांव ने कहा कि वर्तमान में आदिवासियों को शिक्षा से जोड़कर उनका विकास किया जा सकता है। छात्र अच्छी शिक्षा प्राप्त कर अपने व अपने परिवारों को प्रगति के पथ पर ला सकते हैं। बाबा कार्तिक उरांव का उद्देश्य था कि आदिवासियों को शिक्षित कर विकास की मुख्यधारा से जोड़ा जाए। उनके इस उद्देश्य को पूरा करना है।

डॉ बिरसा उरांव ने कहा कि परिषद जनजातियों के विकास के लिए बनी है। इसका उद्देश्य ही सामाजिक, धार्मिक, सांस्कृतिक व शैक्षणिक विकास करना है। परिषद के जिला महासचिव कार्तिक लोहरा ने कहा कि मौजूदा समय में आदिवासियों के हितों की रखवाली हमें हर हाल में करनी है। इसके लिए शिक्षित बनना है और संगठित रहते हुए अपने अधिकारों के लिए संघर्ष करना है। इस दौरान छात्रों के लिए करियर काउंसिलिंग का भी आयोजन किया गया। मौके पर अतिथि के रूप में अभय सागर मिंज, प्रोफेसर सत्यनारायण उरांव, केंद्रीय सरना समिति के अध्यक्ष अजय तिर्की के अलावा कुंदरसी मुंडा, पवन तिर्की, बच्चन उरांव, दुर्गा कच्छप, सोमा उरांव, लाल महली, सुनिता मुंडा, राहुल तिर्की आदि उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Adivasi society fulfills the resolutions of Baba Kartik