DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एमएस भवानी इंटरप्राईजेज कंपनी को मिला आउटसोर्सिंग का ठेका

सदर अस्पताल में आउटसोर्सिंग के आधार पर काम करने के लिए मंगलवार को सिविल सर्जन कार्यालय में निविदा चयन समिति की बैठक हुई। अध्यक्षता सिविल सर्जन डॉ मार्शल आइनंद ने की। इस दौरान कंपनियों की ओर से समर्पित रेट का अवलोकन किया गया। सिविल सर्जन कार्यालय ने कंपनियों से प्रतिदिन आठ घंटे काम करने के एवज में रेट मांगा था। आउटसोर्सिंग काम के लिए रिडर सिक्यूरिटी, बालाजी डिटेक्टीव फोर्स, बिरसा सिक्यूरिटी, फ्रॉट लाइन, एमएस भवानी इंटरप्राईजेज और पवन सिक्यूरिटी सर्विस ने निविदा भरी थी, लेकिन पवन सिक्यूरिटी सर्विस को रेट स्पष्ट रूप से अंकित नहीं किए जाने के कारण उसे अयोग्य घोषित कर दिया गया। जबकि तकनीकी कारणों से फ्रॉट लाइन बिजनेस सलूशन प्रा. लि की आवेदन को 8 मई की बैठक में रद्द कर दिया गया। अब निविदा में चार कंपनियां रह गई है। इसमें रिडर सिक्यूरिटी, बालाजी डिटेक्टीव फोर्स, बिरसा सिक्यूरिटी और एमएस भवानी इंटरप्राईजेज कंपनी प्रमुख थे। बैठक में इन चारों कंपनियों के कागजात और रेट का अवलोकन करने के बाद एसएस भवानी इंटरप्राईजेज कंपनी को सत्र 2018-19 के लिए आउटसोर्सिंग काम का ठेका दिया गया। मौके पर सीएस डॉ मार्शल आइनंद, डीएस डॉ अवधेश प्रसाद सिन्हा, डॉ एके पाठक, डॉ स्वराज, श्रम अधीक्षक रमेश प्रसाद, प्रधान लिपिक नरेश राम सहित अन्य सदस्य उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:MS Bhavani Enterprises gets outsourcing contract