DA Image
21 अक्तूबर, 2020|7:29|IST

अगली स्टोरी

रसदा गांव में छाई डेम जमीन बचाव संघर्ष समिति की बैठक

default image

र सदा गांव में रविवार को छाई डैम जमीन बचाव संघर्ष समिति की बैठक हुई। इसकी अध्यक्षता पूर्व जिला पार्षद झरी मुंडा और संचालन सतीश करमाली ने किया। बैठक में समिति ने सरकार से पतरातू प्रखंड के आदिवासी मूलवासियों के द्वारा रेलवे, सीसीएल, बीसीसीएल और उघोगपतियों द्वारा छीने जमीन वापस कराने की मांग की है। विस्थापित ग्रामीणों का कहना है कि स्थानीय लोगों की जमीन पर उघोगपति राज कर रहें है। और यहाँ के लोगों की भूख मरी की स्थिति उत्तपन्न हो रही है जिसे ना ही सरकार को दिख रहा है और ना ही कंपनी प्रबंधन को आगे उन्होंने यह भी बताया कि अब विस्तगपित ग्रामीण किसी भी कीमत पर उपघोगपति और कंपनी को अपनी जमीन नहीं देने का निर्णय लिया है। इसकी तैयारी भी जोर शोर से चल रही है। और विस्थापित ग्रामीण अब किसी से डरने वाले नहीं है उन्होंने बताया है कि ईंट का पथर अब वे ईंट से जवाब देने के लिए तैयार है। बैठक में रविंद्र यादव, शतुध्न मुंडा, मोहन करमाली, भीम प्रसाद, अर्जुन सिंह, नथु साहु, विनोद गंझू, गोपाल यादव आदि दर्जनों विस्थापित ग्रामीण उपस्थित थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Meeting of Dame land rescue struggle committee held in Rasda village