ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड रामगढ़रामगढ़ में 12 घंटे से आईटी खंगाल रही रूंगटा कंपनी के खाते

रामगढ़ में 12 घंटे से आईटी खंगाल रही रूंगटा कंपनी के खाते

रामगढ़ में चार लोगों ठिकानों पर सुबह 5 बजे से चल रही छापेमारी, बिहार आईटी की टीम सीआरपीएफ के साथ कर रही...

रामगढ़ में 12 घंटे से आईटी खंगाल रही रूंगटा कंपनी के खाते
हिन्दुस्तान टीम,रामगढ़Fri, 08 Dec 2023 12:30 AM
ऐप पर पढ़ें

रामगढ़। वरीय संवाददाता
झारखंड के नामी उद्योगपति रामचंद्र रूंगटा के कंपनी के खाते आयकर विभाग की टीम पिछले 12 घंटे से खंगाल रही है। आयकर विभाग पटना की टीम सीआरपीएफ की टुकड़ी लेकर गुरुवार को सुबह 5 बजे ही रूंगटा के ठिकानों पर पहुंचकर छापेमारी करना शुरू कर दी। यह छापेमारी रूंगटा ग्रुप के रामगढ़ मेन रोड स्थित कार्यालय सह आवासीय परिसर, कुजु ओपी क्षेत्र के बूढ़ा खाप करमा स्थित आलोक स्टील, बरकाकाना ओपी क्षेत्र के हेहल स्थित मां छिन्नमस्तिका स्पंज आयरन प्लांट और रामगढ़ थाना क्षेत्र के अरगड़ा हेसला स्थित झारखंड इस्पता में की जा रही है। समाचार लिखे जाने तक छापेमारी जारी था। इस छापेमारी के दौरान किसी को न तो कंपनी के प्लांट और कार्यालय के अंदर आने की इजाजत दी गई और न ही अंदर कार्यरत लोगों को बाहर ही निकलने दिया गया। छापेमारी के लिए पहुंची सीआरपीएफ की टीम के सदस्यों को भी गेट के बाहर पहरेदारी करने के बजाए गेट के अंदर करके गेट को लॉक कर दिया गया। शाम में 6 बजे तक छापेमारी दल में शामिल लोग प्लांट और कार्यालय के अंदर कंपनी के खातों को खंगाल रहे थे।

- लोकल पुलिस और आईटीम को भी छापेमारी से रखा गया है दूर

छापेमारी की खबर स्थानीय लोगों के माध्यम से जिले भर में पहुंची। सुबह-सुबह सभी ठिकानों पर तीन-चार की संख्या में वाहन में भरकर अधिकारी और सीआरपीएफ के जवान प्लांट और रूंगटा कंपनी के कार्यालय में पहुंचे। गेट पर पहुंचते ही छापेमारी दल में शामिल अधिकारियों ने गेट पर तैनात सुरक्षा गार्ड के मोबाइल को जब्त करते हुए गेट की सुरक्षा व्यवस्था सीआरपीएफ के हवाले कर दिया। छापेमारी दल में शामिल वाहनों में बड़ी संख्या में बिहार नंबर के गाड़ियों को देखते हुए लोगों ने अंदाजा लगाया कि छापेमारी दल का नेतृत्व आयकर विभाग पटना की टीम कर रही है। इस टीम में पटना के अलावा और कहां-कहां के अधिकारी को लगाया गया है इसकी कोई सूचना अभी तक नहीं मिल पाई है। मामले में कुछ भी बात करने के लिए कोई अधिकारी सामने नहीं आया है।

- किसी को प्लांट या कार्यालय के पास फटकने की नहीं है इजाजत

रूंगटा ग्रुप के विभिन्न ठिकानों पर छापेमारी की सूचना पाकर मीडिया समेत कई लोग उनके प्लांट और कार्यालय के बाहर पहुंच गए, लेकिन किसी को छापेमारी स्थल के आसपास फटकने नहीं दिया गया। जिसके कारण शाम तक सभी लोग सिर्फ कयास ही लगा रहे थे। यह हाल समाचार भेजे जाने तक बना हुआ था। सभी लोग छापेमारी दल के बाहर निकलने के इंतजार में थे। ताकि छापेमारी दल में शामिल लोगों से बात करके इस छापेमारी के बारे में बात किया जा सके।

- स्थानीय अधिकारियों ने जताई अनभिज्ञता

मामले में जानकारी के लिए जब आयकर विभाग रामगढ़ और पुलिस विभाग रामगढ़ के स्थानीय वरीय अधिकारियों से संपर्क किया गया तो उन्होंने मामले में कोई भी जानकारी होने से साफ इंकार कर दिया। अधिकारियों के अनुसार उन्हें यह भी पता नहीं है कि उनके यहां छापेमारी चल रही है। इसके कारण भी छापेमारी में अबतक हुई कार्रवाई और अभियान से संबंधित कोई सूचना किसी तरह नहीं पहुंच पाई है।

- रूंगटा ग्रुप के कंपनियों का छापेमारी से पुराना रहा है नाता

रामगढ़ स्थित रूंगटा कंपनी के छापेमारी कोई पहली बार नहीं हो रही है। इस कंपनी में पहले भी कई बार छापेमारी हो चुकी है। आयकर, सेल टैक्स के अलावा सीबीआई तक की छापेमारी यहां पहले भी हो चुकी है। रूंगटा कंपनी का नाम कोल स्कैम में पहले आ चुका है। इस मामले में भी कई बार ग्रुप के विभिन्न ठिकानों में छापेमारी की गई है। आयकर विभाग की ओर से कभी आयकर सर्वे तो कभी टैक्स चोरी के नाम पर यहां छापेमारी हुई है।

- घनघनाती रही फोन की घंटियां, बात करने को कोई नहीं आया सामने

छापेमारी को लेकर रूंगटा कंपनी के कई अधिकारियों को मामले की जानकारी के लिए फोन किया गया। कई लोगों के तो फोन ही बंद पाए गए वहीं जो नंबर चालू भी उसपर भी कहीं से किसी का कोई रिस्पॉस नहीं आया। यहां तक की रूंगटा कंपनी प्रबंधन को भेजे गए मैसेज का भी कोई जवाब नहीं दिया गया।

- बड़े उद्योगपतियों में शुमार है रामचंद्र रूंगटा

रूंगटा ग्रुप के जिन ठिकानों पर छापेमारी चल रही है। इसके संस्थापक रामचंद्र रूंगटा है। रूंगटा कंपनी झारखंड के नामचीन उद्योगपतियों में शुमार हैं। रामगढ़ में रामचंद्र रूंगटा के अलावा इनके अन्य भाईयों का भी स्पंज आयरन प्लांट है। वर्तमान में रूंगटा कंपनी रामगढ़ की सबसे बड़ी स्पंज आयरन प्लांटों में शामिल है। रामचंद्र रूंगटा और उनके बेटे आलोक रूंगटा इन कंपनियों को संचालित करते हैं। पूर्व में स्पंज आयरन प्लांटों में रामचंद्र रूंगटा के सामने प्रदीप बेलथरिया का भी नाम भी आता था, लेकिन प्रदीप बेलथरिया रामगढ़ में अपने स्पंज आयरन के प्लांट से हाथ खींच लिए। प्रदीप बेलथरिया से ही रूंगटा ग्रुप ने हेहल स्थित मां छिन्नमस्तिका प्लांट खरीदा है। ग्रुप के पास आयरन ओर के खदानों का भी स्वामित्व है। इसके अलावा रामगढ़ के पुराने दुर्गा सीमेंट कारखाना भी यही ग्रुप संचालित करता रहा है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें