DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उरीमारी डिस्पेंसरी में डॉक्टर नहीं, मरीज बेहाल

उरीमारी डिस्पेंसरी में डॉक्टर नहीं, मरीज बेहाल

बड़कागांव प्रखंड की उरीमारी, गरसुलला और पोटंगा पंचायत की हजारों की आबादी झोला छाप डॉक्टरों के भरोसे है। इसका मूल वजह यह कि सीसीएल की उरीमारी डिस्पेंसरी में एक माह से डॉक्टर उपलब्ध नहीं है। सीसीएल के उरीमारी डिस्पेंसरी में डॉक्टर के नहीं रहने से सीसीएल कर्मियों सहित आमजनों को काफी परेशानी हो रही है। सीसीएल ने उरीमारी में एक डॉक्टर की नियुक्ति की थी। पर एक माह से वह डॉक्टर यहां पर ड्यूटी नहीं दे रहे हैं। बताया गया कि डॉक्टर के नहीं आने से लोगों की परेशानी बढ़ गयी है। लोग या तो छोला छाप के पास नतमस्तक हैं या भुरकुंडा-सयाल में जाकर इलाज करवा रहे हैं।

यूकोवयू ने किया हॉस्पिटल का दौरा

यूकोवयू की ओर सीसीएल वेलफेयर बोर्ड में सदस्य विंध्याचल बेदिया ने उरीमारी डिस्पेंसरी का निरीक्षण किया। उन्होंने पाया कि डिस्पेंसरी बदहाल है। यहां पर एक माह से डॉक्टर नहीं है और आवश्यक दवाएं भी मौजूद नहीं है। डिस्पेंसरी के दरवाजे और खिड़कियां भी जर्जर हो गयी हैं। उन्होंने कहा कि इसकी शिकायत वो सीसीएल बरका-सयाल के जीएम सहित उच्चाधिकारियों को करेंगे। निरीक्षण के दौरान सीपीआई के विनोद मिश्रा आदि मौजूद थे।

उरीमारी के डॉक्टर हैं बीमार, गए छुट्टी पर

उरीमारी डिस्पेंसरी में प्रतिनियुक्त डॉक्टर सुनील कुमार बीमार हैं। इसको लेकर उन्होंने सीसीएल से छुट्टी लिया है। सीसीएल के अधिकारियों ने बताया कि छुट्टी पर रहने के कारण यह दिक्कत आ रही है। इसको लेकर किसी भी डॉक्टर की यहां वैकल्पिक व्यवस्था नहीं किया जाना सवाल खड़ा कर रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Doctor in Urimari dispensary, patient patient