DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोला में कुपोषण को लेकर कार्यशाला का आयोजन

गोला में कुपोषण को लेकर कार्यशाला का आयोजन

1 / 2गोला प्रखंड कार्यालय सभागार में मंगलवार को बीडीओ श्रीमान मरांडी की अध्यक्षता में कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें सीओ रितेश जायसवाल, सीएचसी के चिकित्सा प्रभारी डॉ प्रेम कुमार व अन्य कई ने भाग...

गोला में कुपोषण को लेकर कार्यशाला का आयोजन

2 / 2गोला प्रखंड कार्यालय सभागार में मंगलवार को बीडीओ श्रीमान मरांडी की अध्यक्षता में कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें सीओ रितेश जायसवाल, सीएचसी के चिकित्सा प्रभारी डॉ प्रेम कुमार व अन्य कई ने भाग...

PreviousNext

गोला प्रखंड कार्यालय सभागार में मंगलवार को बीडीओ श्रीमान मरांडी की अध्यक्षता में कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें सीओ रितेश जायसवाल, सीएचसी के चिकित्सा प्रभारी डॉ प्रेम कुमार व अन्य कई ने भाग लिया। प्रशिक्षकों ने सेविका, सहिया, एएनएम व अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को कुपोषण से संबंधित जानकारी दी। कहा कि जन्म से पांच वर्ष तक के बच्चे को कुपोषण से बचाने के लिए पौष्टिक आहार देना निहायत जरुरी है। जन्म से छह माह तक के बच्चे को सिर्फ मां का दूध पिलाना चाहिए। कमजोर नवजात, समय से पूर्व जन्मे बच्चे और सामान्य प्रसव से जन्म लिए बच्चों की देख भाल कैसे करने, किस प्रकार की पौष्टिक आहार देने की जानकारी दी गई। प्रशिक्षकों ने बताया कि छह माह के बाद वाले बच्चे को मां के दूध के साथ उपरी आहार देना आवश्यक है। उपरी आहार देने से बच्चे स्वस्थ्य रहेंगे। इस दौरान बच्चे में होने वाले गंभीर रोग व उसके उपचार के बारे में जानकारी दी गई। बच्चों को संक्रमण से बचाने के बारे भी जानकारी दी गई। संक्रमण की चपेट में आने से बच्चे में गंभीर रोग हो जाता है। कार्यशाला में सीएचसी के चिकित्सक, सेविका, सहिया, एएनएम मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Conducting workshop on malnutrition in the sphere