ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड रामगढ़सड़क पर गिरा विशाल पेड़, घंटों रहा सड़क जाम

सड़क पर गिरा विशाल पेड़, घंटों रहा सड़क जाम

पतरातू रांची मुख्य मार्ग के जनता नगर के निकट सोमवार की अल सुबह सड़क पर एक विशाल पेड़ अचानक सड़क पर गिर गया। इससे एक बड़ी दुर्घटना होते-होते टल गया...

सड़क पर गिरा विशाल पेड़, घंटों रहा सड़क जाम
हिन्दुस्तान टीम,रामगढ़Mon, 27 May 2024 11:00 PM
ऐप पर पढ़ें

पतरातू, निज प्रतिनिधि
पतरातू रांची मुख्य मार्ग के जनता नगर के निकट सोमवार की अल सुबह सड़क पर एक विशाल पेड़ अचानक सड़क पर गिर गया। इससे एक बड़ी दुर्घटना होते-होते टल गया और लोग बाल-बाल बच गए। घटना लगभग सुबह चार बजे की है। उस वक्त कालोनी क्षेत्र के लोग मॉर्निंग वॉक के लिए निकलते हैं। साथ ही इस सड़क मार्ग से वाहनों का आवागमन काफी होता है। दूसरी ओर पेड़ के गिरने से पतरातू रांची मुख्य मार्ग तीन घंटे तक जाम रहा। दूसरी ओर इस पेड़ के गिरने के बाद एक अज्ञात बस कॉलोनी के रास्ते मुख्य मार्ग की ओर जाने के कारण बिजली के तार से टकरा गई। इससे भी एक बड़ा हादसा टल गया। इसके अलावा दूसरी ओर सोमवार की सुबह ही पीटीपीएस पोस्ट ऑफिस के निकट एक सूखे पेड़ की डाली टूटकर बिजली के तारों पर गिर गया जिससे कॉलोनी और पतरातू प्रखंड के दक्षिणी छोर के दर्जनों गांव में घंटों बिजली आपूर्ति बाधित रही। इस तरह बिजली विभाग और वन विभाग के अदूरदर्शिता से पतरातू प्रखंड क्षेत्र में आए दिन कुछ ना कुछ हादसा होता रहता है साथ ही बिजली आपूर्ति बाधित होती रहती है। किंतु इस ओर दोनों ही विभाग के अधिकारी अनदेखा कर रहे हैं जो किसी ने किसी दिन बड़े हादसा को आमंत्रण दे रहे हैं। पतरातू और आसपास के क्षेत्र में आए दिन बिजली की आंख मिचौनी होते रहती है। दो-चार दिन पहले तो आंधी पानी आने के कारण दोनों भर बिजली गुल रही। बिजली गुल रहने से इस उमस भरे दिन में क्षेत्र के बच्चे रोते बिलखते रहे। दूसरी ओर बिजली आपूर्ति बाधित होने से ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएं अपने बच्चों के साथ पेड़ों की छांव में दिनों भर वक्त गुजार रहे हैं। तो घरों में रहने वाली महिलाओं के लिए हाथ का पंखा एकमात्र सहारा बन गया है। दूसरी ओर पतरातू के ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की आंख मिचौनी होना जगजाहिर है। इससे लोग काफी परेशान हैं। इधर बिजली आपूर्ति विभाग के कनीय अभियंता रोहिताश कुमार ने बताया कि प्राकृतिक आपदा आंधी पानी आने के कारण बिजली आपूर्ति व्यवस्था चरमरा जाता है। फिर भी विभाग के कर्मी बिजली आपूर्ति व्यवस्था को दुरुस्त करने में लगे रहे और बिजली व्यवस्था को दुरुस्त कराया है। दूसरी ओर अभी ठीक इसके बाद माह जून आने वाला है। इस माह में आंधी के साथ लगातार बारिश होती है। अगर बिजली विभाग अपने बिजली व्यवस्था को सही ढंग से दुरुस्त नहीं किया तो माह जून में भी लोगों को बिजली के लिए तरसना पड़ेगा। अब देखना है कि बिजली विभाग और वन विभाग बिजली उपभोक्ताओं के लिए क्या कदम उठाती है ? क्योंकि पतरातू के बहुत सारे इलाके में ऐसा है कि जहां-जहां बिजली के पोल और तार खींचे गए हैं। इस इलाके में वन विभाग की ओर से पेड़ पौधे लगाए गए हैं। इसके पेड़ की टहनियां अक्सर बिजली के तारों पर गिरते रहते हैं और बिजली आपूर्ति व्यवस्था चरमरा जाता है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।