ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड पलामूकरमा महोत्सव से महक उठा पलामू को शहर व गांव, अखरा में गूंज रहा जय करम जय धरम

करमा महोत्सव से महक उठा पलामू को शहर व गांव, अखरा में गूंज रहा जय करम जय धरम

मेदिनीनगर, हिन्दुस्तान टीम। झारखंड का पारंपरिक करमा उत्सव सोमवार को दिन से ही सोल्लास शुरू हो गया है। पलामू जिला मुख्यालय सिटी मेदिनीनगर सिटी समेत...

करमा महोत्सव से महक उठा पलामू को शहर व गांव, अखरा में गूंज रहा जय करम जय धरम
हिन्दुस्तान टीम,पलामूMon, 25 Sep 2023 11:40 PM
ऐप पर पढ़ें

मेदिनीनगर, हिन्दुस्तान टीम। झारखंड का पारंपरिक करमा उत्सव सोमवार को दिन से ही सोल्लास शुरू हो गया है। पलामू जिला मुख्यालय सिटी मेदिनीनगर सिटी समेत दो सौ से अधिक गांव में करमा के गीत गूंज रहे हैं। जय करम, जय धरम के जयकारा से अखरा गूंज रहा है। शाम होते करमा के गीत से अखरा के आसपास का क्षेत्र पारंपरिक सुगंध से महक उठा है।
मेदिनीनगर के गणेश लाल अग्रवाल महाविद्यालय के डॉ जेएन दीक्षित छात्रावास परिसर स्थित अखड़ा में सोमवार को करमा महोत्सव के दौरान विशेष पूजा की गई। सोमवार को करम डाली को स्थापित कर प्रारंपरिक रूप से पूजा की शुरुआत की गई। पाहन इंद्रदेव उरांव ने पारंपरिक विधि से करम डाली की पूजा कराया। इसके बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जनता शिवरात्रि कॉलेज के प्राचार्य डॉ राणा प्रताप सिंह ने भाग लिया। उन्होंने प्रकृति पूजा करमा के अवसर पर प्रकृति को बचाने का आह्वान किया। उन्होंने करम पूजा के माध्यम से प्रकृति से जुड़े रहने की बात कही। करम पूजा कार्यक्रम प्रो बर्नाड टोप्पो के अगुआई में किया जा रहा है। उन्होंने करमा पूजा के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि करमा पूजा से गांव घर की भलाई होती है। इससे कुंवारी कन्याओं की मनोकामनाएं पूर्ण होती है। बहनें अपने भईया के लिए सात दिन पूर्व से ही इसकी तैयारी करती है। पूजा में बहनों को बहुत महत्व दिया जाता है। बहने अच्छे संतान और अच्छी कृषि की भी कामना की जाती है। बलराम उरांव, प्रो डॉ संगीता कुजूर, प्रो. शालिनी, प्रो. अजीत सेठ, चेरो सुरेन्द्र सिंह, जेएन दीक्षित छात्रावास के विद्यार्थी, केजी हॉस्टल व ज्योति हॉस्टल की छात्राएं पूजा व सांस्कृतिक कार्यक्रम में शामिल हुए।

इधर अदि कुरूख सरना समाज की पलामू यूनिट की अगुवाई में पलामू जिले के विभिन्न प्रखंडों के 211 गांव के अखरा में करम डाली स्थापित कर पूजा की जा रही है। रविवार को सभी गांवों के अखरा में पूजा के निमित सफाई कर सजावट किया गया था। मुख्य सरना स्थल मेदिनीनगर नगर निगम के पोखराहा मोहल्ले में विशेष आयोजन किया जा रहा है। अदि कुरूख सरना समाज के पदाधिकारी मिथिलेश कुमार ने बताया कि शाम करीब साढ़े सात बजे से पूजा शुरू किया गया है। नौ बजे तक पूजा का समापन होगा। इसके बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम रातभर चलेगा। सुबह में जावा खोंसने के बाद विसर्जन कार्यक्रम होगा। पांकी में पाहन रामावतार उराव, छतरपुर के मसिहानी में सुरेश उरांव, चैनपुर के कोदुवाडीह में रामप्रसाद उरांव, जयनगरा में उपेंद्र उरांव, हरी उरांव, खुरा खुर्द में मनेश उरांव, कुदगा में लाल देव उरांव, केंद्रीय सरना स्थल पोहराहा कला में अरुण उरांव, चियांकी सरना स्थल में मुखदेव उरांव व सरिता उरांव, मनातू के भैसाखड्ड में सीता राम उरांव, सतबरवा प्रखंड के बकोरिया में पाहन रामप्यारी उरांव, नीलांबर-पीतांबर के जुरु में सुधेश्वर उरांव, रामगढ़ प्रखंड में सकलदीप उरांव के नेतृत्व में करमा पूजा किया जा रहा है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें