DA Image
29 जनवरी, 2020|1:48|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दूसरे दिन भी हड़ताल पर रहकर धरना दिया चिकित्सव व स्वास्थ्यकर्मियों ने

default image

पलामू जिले के हैदरनगर अस्पताल में कार्यरत डॉ. शाहिल नयन रजनीश के साथ मारपीट की घटना से आक्रोशित चिकित्सक व स्वास्थ्यकर्मी गुरुवार को दूसरे दिन भी आरोपी की गिरफ्तारी की मांग को लेकर हुसैनाबाद अनुमंडलीय अस्पताल में धरना पर बैठे। वहीं बेहतर स्वास्थ्य की कामना को लेकर अस्पताल परिसर में हवन भी किया गया। हड़ताली कर्मचारियों ने चेतावनी दी है कि डॉक्टर के साथ मारपीट करने वाले को अविलंब गिरफ्तार किया जाय अन्यथा आंदोलन को जारी रखा जायेगा। इधर हुसैनाबाद एसडीपीओ विजय कुमार ने हड़ताली स्वास्थ्य कर्मचारियों को कहा कि अस्पताल में सुरक्षा व्यवस्था मुहैया करा दी गई है। वैसे ही मारपीट करने वाले दोषी व्यक्तियों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की पलामू यूनिट भी आंदोलन को समर्थन दे रही है। हुसैनाबाद के चिकित्सा प्रभारी डॉ. एसके रवि ने बताया कि प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था दी गई है। उसके लिए आभार व्यक्त करते हैं परंतु आए दिन चिकित्सकों के साथ मारपीट की घटना हो रही है। इसपर तत्काल लगाम कसने की जरूरत है। इसके लिए दोषियों को शीघ्र गिरफ्तार करने की मांग की जा रही है। बेमियादी हड़ताल व धरना इसी मांग को लेकर जारी है। इमर्जेंसी सेवा ही फिलवक्त अनुमंडलीय अस्पताल में दिया जाएगा। धरना पर गुरुवार को अस्पताल उपाधीक्षक डा. एसके रवि, डा. विनेश कुमार, डा.पीएन सिंह, डा. चन्द्रमोहन प्रसाद, डा. आईएस होरो के अलावा स्वास्थ्य कर्मी सुजीत कुमार, सुनील कुमार, अशोक कुमार, विनय सिंह, मो.शमीम, अली हसन, निरंजन सिंह, अर्चना कुमारी, राजमुनी देवी, अभिलाषा टोपो आदि बैठे। हैदरनगर अस्पताल में टेली मेडिसीन सेंटर भी रही बाधित : हैदरनगर व अधौरा गांव स्थित स्वास्थ्य केंद्र में दूसरे दिन भी चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल से सभी स्वास्थ्य सेवाएं ठप रही। मंगलवार की देर शाम चिकित्सक साहिल नयन रजनीश की पिटाई के विरोध में परिसर में चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मियों ने लगातार धरना देने का कार्यक्रम जारी रखा है। धरना दे रहे स्वास्थ्य कर्मियों ने आपात सेवा देने से भी इंकार कर दिया है। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डा. अशोक कुमार ने कहा कि अस्पताल में सुरक्षा कर्मियों को प्रतिनियुक्ति कर दी गई है। किन्तु इस घटना में शामिल दोषियों की गिरफ्तारी तक हड़ताल जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि मामला आइएमए में भी चला गया है। स्वास्थ्य कर्मी मो. शकील व नवीन किशोर ने कहा कि स्वास्थ्य सचिव के निर्देशानुसार अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में इमरजेंसी सेवा नहीं देने का प्रावधान के बावजूद उनके द्वारा सेवा दी जाती है। पर अब मात्र ओपीडी सेवा ही देने का निर्णय लिया गया है। आपात सेवा के दौरान ही ऐसी घटना घटित होने के बाद इस निर्णय को पारित किया गया है। इस निर्णय से चिकित्सा पदाधिकारी को अवगत करा दिया गया है। उन्होंने बताया कि इस अस्पताल के टेली मेडिसीन सेंटर के कर्मी भी इस हड़ताल को समर्थन दिया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:On the second day medical and health workers staged a sit-in strike