DA Image
29 जनवरी, 2020|1:09|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनपीयू आज से शुरू करेगा 12वें साल का सफर, संसाधन बढ़े परंतु शिक्षक नहीं

default image

नीलांबर-पीतांबर विश्वविद्यालय गुरुवार को 11 साल का सफर पूरा कर लिया। 17 जनवरी 2009 को स्थापित एनपीयू शुक्रवार को अपना स्थापना दिवस मनाने के साथ 12वें वर्ष के सफर की शुरुआत करेगा। पलामू में युवाओं का नक्सलवाद की ओर जाने का दौर जारी था उसी कालखंड में मेदिनीनगर में एनपीयू की स्थापना कर झारखंड के इस प्रमंडल में उच्चशिक्षा के क्षेत्र में क्रांति लाने का प्रयास किया गया था परंतु 11 सालों में इस विश्वविद्यालय में एकेडमिक, व्यवसायिक व तकनीकी शिक्षा के निमित संस्थान व विद्यार्थी तो बढ़े परंतु शिक्षकों की कमी दूर नहीं हो सकी। फलत: विद्यार्थियों को गुणवतायुक्त शिक्षा दे पाने के उद्देश्य को पूरा करने में विश्वविद्यालय पिछड़ता जा रहा है। 21 पीजी डिपार्टमेंट वाले इस विश्वविद्यालय में एकेडिक कार्य के लिए एक भी प्रोफेसर एक भी नहीं है। वहीं महज पांच एसोसिएट प्राध्यापकों दो प्राचार्य का और एक डीएसडब्लू का दायित्व संभाल रहे हैं। शेष दो ही एकेडमिक कार्य देख रहे हैं। आगामी सात मई को अपना कार्यकाल पूरा कर रहे एनपीयू के कुलपति प्रो. डॉ सत्येन्द्र नारायण सिंह ने काफी कुछ बदलाव का प्रयास किया परंतु फिलवक्त उनके पास भी अब चार महीने का ही वक्त है। उन्होने स्वीकार किया कि शिक्षकों की घोर कमी है। जेपीएससी को शिक्षकों की नियुक्ति करने के लिए कई बार लिखा जा चुका है, परंतु जेपीएससी से नियुक्ति नहीं होने शिक्षकों की कमी की समस्या बनी हुई है। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों को कॉट्रेक्ट पर नियुक्त कर पठन-पाठन कराया जा रहा है। वीसी ने दावा किया कि 10 सालों में एनपीयू इंफ्रास्ट्रक्च के मामले में मजबूत हुआ है। इसी साल 20 जनवरी को एनपीयू के वित्तीय सलाहकार कैलाश राम का टर्म पूरा हो रहा है जबकि फरवरी में असिस्टेंट रजिस्ट्रार डॉ बीके देवघरिया और डीएसडब्लू प्रो. एनके तिवारी रिटायर हो जाएगें।एक-दो माह में वर्चुअल क्लास हो जाएगा प्रारंभ: शिक्षकों की कमी को झेल रहे एनपीयू में एक-दो माह में वर्चुअल क्लास प्रारंभ हो जाएगा। इसके लिए जोर-शोर काम किया जा रहा है। प्रारंभिक दौर में चार अंगीभूत कॉलेज जीएलए कॉलेज, जेएस कॉलेज, योध सिंह नामधारी महिला कॉलेज और एसएसजेएसएन कॉलेज गढ़वा में वर्चुअल क्लास प्रारंभ किया जाएगा। मनिका डिग्री कॉलेज में वर्चुअल क्लास इसके बाद शुरू किया जाएगा। वर्चुअल क्लास का स्टूडियो का निर्माण जीएलए कॉलेज में किया जा रहा है। वर्चुअल क्लास प्रारंभ हो जाने से शिक्षकों की कमी की मार झेल रहे विश्वविद्यालय में पंजीकृत विद्यार्थियों को थोड़ी राहत मिलेगी। वीसी प्रो. डॉ सत्येन्द्र नारायण सिंह ने कहा कि कई सालों से शिक्षकों के प्रमोशन के मामले लंबित था। उन्होंने कहा कि जिन शिक्षकों को प्रमोशन मिलना चाहिए था, उसे दे दिया गया है। कुछ शिक्षकों का प्रमोशन अभी भी लंबित है जिसका निष्पादन जल्द कर दिया जाएगा। उन्होंने जिन शिक्षकों को प्रमोशन दे दिया गया है, वैसे शिक्षकों की संचिका जेपीएससी को भेज दी गई है। 2020 में हो जाएगा आठ सरकारी कॉलेज: एनपीयू के पास 2020 में आठ सरकारी कॉलेज हो जाएगा। वर्तमान में एनपीयू के पास सरकारी कॉलेज हैं,जिसमें जीएलए कॉलेज, जेएस कॉलेज, एसएसजेएसन कॉलेज गढ़वा, योध सिंह नामधारी महिला कॉलेज, मनिका डिग्री कॉलेज। वर्तमान में मनिका डिग्री कॉलेज हाई स्कूल परिसर में संचालित किया जा रहा है। उम्मीद है कि दो-तीन माह में मनिका डिग्री कॉलेज अपना नये भवन में शिफ्ट हो जाएगा। इसके अलावे मेदिनीनगर के कुर्का में मॉडल कॉलेज, मॉडल कॉलेज लातेहार, मॉडल कॉलेज गढ़वा का भवन निर्माण कार्य 85 प्रतिशत पूरा हो चुका है। इसके अलावे भवनाथपुर डिग्री कॉलेज, महिला कॉलेज धर्मपुर लातेहार, डिग्री कॉलेज छतरपुर, डिग्री कॉलेज हुसैनाबाद में काम शुरू हो चुका है। इसके अलावे तीनों जिला में बहुदेशीय परीक्षा भवन का भी निर्माण कराया जा रहा है। जीएलए कॉलेज परिसर में चार सौ क्षमता का ऑडिटोरियम का निर्माण कार्य किया जा रहा है। वहीं जीएलए कॉलेज का अलग-अलग साइंस और आर्ट्स ब्लॉक का निर्माण भी किया जा रहा है। वीसी ने कहा कि बालूमाथ में भी एक सरकारी कॉलेज प्रस्तावित है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:NPU will start its 12th year journey from today resources increase but teachers do not