DA Image
24 अक्तूबर, 2020|2:21|IST

अगली स्टोरी

शहीद रूपेश और उदय के परिजनों को सम्मानित कर पूछा कुशलक्षेम

default image

पलामू जिले के छतरपुर अनुमंडल क्षेत्र अंतर्गत नौडीहा थाना क्षेत्र के डगरा पीकेट में तैनात सीआरपीएफ के 134 बटालियन के अधिकारी व जवानों का मनोबल काफी हाई है। केद्रीय गृह मंत्रालय में वरीय सुरक्षा सलाहकार के विजय कुमार और सीआरपीएफ के डीजी डॉ. एपी माहेश्वरी ने सीआरपीएफ के वरीय अधिकारियों व पलामू पुलिस के अधिकारियों के साथ डगरा पुलिस पिकेट परिसर में बिहार में विधानसभा के आसन्न आम चुनाव में सुरक्षा को लेकर उच्च स्तरीय बैठक की। इस दौरान संसाधन व चुनौतियों को लेकर भी चर्चा हुई। अधिकारियों ने जवानों का मनोबल बढ़ाने के लिए जवानों के साथ सभा की और उनका कुशल क्षेम पूछते हुए उनका मनोबल भी बढ़ाया। बिहार के गया जिले की सीमा से चंद किलोमीटर की दूरी पर पहाड़ी के पास स्थित डगरा पुलिस पिकेट परिसर में के विजय कुमार, डॉ. एपी माहेश्वरी सहित अन्य अधिकारियों ने अर्जुन, आम आदि के पौधे लगाये। साथ ही अति वरीय अधिकारियों के दौरे के आलोक में आमंत्रित शहीद रूपेश सिंह और शहीद उदय कुमार यादव के परिजनों को शॉल आदि से सम्मानित करते हुए वरीय सुरक्षा सलाहकार के विजय कुमार व डीजी एपी माहेश्वरी ने उन्हें अहसास कराया कि देश व सीआरपीएफ हमेशा उनके साथ है। बाद में बड़ा खाना का भी आयोजन किया गया जिसमें अधिकारियों व जवानों ने साथ-साथ खाना खाया। करीब दो घंटे पिकेट परिसर में रहने बाद अधिकारीगण हेलीकॉप्टर से रवाना हो गये। बैठक में शामिल अधिकारियों के अनुसार पलामू से जुड़ते बिहार की सीमा में उग्रवादियों खासकर माओवादियों को नियंत्रित रखने के लिए समन्वय बनाकर अभियान चलाने की कार्ययोजना बैठक में बनी। घटना को अंजाम देकर पहाड़ी क्षेत्रों का फायदा उठाकर व अंतर्राज्यीय सीमा का फायदा उठाकर उग्रवादी बच निकलते हैं। बैठक में विशेष डीजी कुलदीप सिंह और सीआरपीएफ के झारखंड जोन के आईजी डॉ. महेश्वर दयाल, बैठक में पलामू पुलिस के डीआईजी राजकुमार लकड़ा, सीआरपीएफ के डीआईजी ए. पॉल, पुलिस अधीक्षक संजीव कुमार, सीआरपीएफ के 134 बटालियन के कमांडेंट एडी शर्मा, एएसपी अभियान अरूण सिंह, एसडीपीओ शंभू कुमार सिंह सहायक कमांडेंट राजेंद्र सिंह भंडारी आदि मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Honoring the families of martyr Rupesh and Uday asked Kushalakshme