ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड पलामूभ्रष्टाचार में लिप्त परिवार दूसरे पर लगा रहें हैं गबन का आरोप : पूर्व सचिव

भ्रष्टाचार में लिप्त परिवार दूसरे पर लगा रहें हैं गबन का आरोप : पूर्व सचिव

पलामू जिले के जपला स्थित एके सिंह कॉलेज के पूर्व सचिव सह भाजपा नेता ललन कुमार सिंह और पूर्व कोषाध्यक्ष अशोक कश्यप ने जिसका पूरा परिवार भ्रष्टाचार में लिप्त है अब वह दूसरे को भ्रष्टाचारी कहने निकला...

भ्रष्टाचार में लिप्त परिवार दूसरे पर लगा रहें हैं गबन का आरोप : पूर्व सचिव
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,पलामूTue, 07 Jul 2020 08:25 PM
ऐप पर पढ़ें

पलामू जिले के जपला स्थित एके सिंह कॉलेज के पूर्व सचिव सह भाजपा नेता ललन कुमार सिंह और पूर्व कोषाध्यक्ष अशोक कश्यप ने जिसका पूरा परिवार भ्रष्टाचार में लिप्त है अब वह दूसरे को भ्रष्टाचारी कहने निकला है। ऐसा कहने से संबंधित लोगों को अपने गिरेबान में झांकने की जरूरत है। श्री सिंह के जपला स्थित आवासीय परिसर में मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस कर एके सिंह कॉलेज को लेकर इंटक के नेता विनय कुमार सिंह उर्फ बिनू सिंह द्वारा लगाए गए आरोप को निराधार बताया गया। कॉलेज के दोनों पूर्व पदाधिकारियों ने संपूर्ण मामले की उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग की। इस मामले को लेकर हुसैनाबाद थाना में प्राथमिकी भी दर्ज हो चुकी है। इस मामले को लेकर एक राजनीतिक दल के वरिष्ठ नेताओं ने आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। कॉलेज में जो भी विकास हुए हैं उसका प्रमाण उपलब्ध है :कॉलेज के पूर्व पदाधिकारियों ने कहा कि प्राचार्य महाविद्यालय के नियंत्रक होते हैं। कॉलेज की उपस्थिति पंजी में प्रतिदन शिक्षक एवं शिक्षकेत्तर कर्मचारियों के हस्ताक्षर बनाये जाने के बाद प्राचार्य इस पंजी का अवलोकन कर अपना हस्ताक्षर करते हैं। कॉलेज में जो भी विकास कार्य किये गये हैं, उसका प्रमाण भी हैं। एसबीआई के हुसैनाबाद ब्रांच कॉलेज का खाता संख्या जो मीडिया को संबंधित लोगों द्वारा बताया गया है वह गलत है। यह कॉलेज से संबंधित खाता नहीं है। कॉलेज से संबंधित खाता संख्या 30374810109 हैं। विश्वविद्यालय द्वारा इस खाते को बंद करने का निर्देश दिया था। 21 मार्च 2017 को इस खाते से चार लाख 44 हजार रुपये निकासी कर खाता को बंद कर दिया गया था और संबंधित राशि विज्ञान भवन निर्माण में खर्च किया गया था। यह रोकड़ पंजी में दर्ज हैं। 20 एवं 21 जुलाई 2016 में कॉलेज में लेक्चरर की नियुक्ति की गयी थी। उन्हें नियुक्ति पत्र देने व योगदान देने के बाद ही उन्हें मानदेय का भुगतान किया गया। कॉलेज में किसी तरह की अनियमितता व गबन का मामला नहीं बनता। पुलिस प्रशासन इस मामले की छानबीन कर रही है, सच्चाई सामने आ जायेंगी। पूर्व प्रबंध समिति के लोगों ने कॉलेज को संवारने का काम किया हैं। नेताओं ने कहा कि उनके संस्कारों में लूट व गबन नहीं हैं और न ही ऐसा करने का कभी सोंच रखते हैं।

epaper