DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टीओपी-2 को तीन महीने के अंदर जमीन खाली करने का निर्देश

पलामू सिविल कोर्ट के सिविल जज प्रथम बिमलेश कुमार सहाय की अदालत ने छह वर्षों से चल रहे मेदिनीनगर टीओपी-2 की जमीन से संबंधित मामले में फैसला सुनाते हुए प्रतिवादी को तीन महीने के भीतर वादी की जमीन को खाली करने का आदेश दिया है। ऐसा नहीं करने की स्थिति में वादी विधि के अनुसार अग्रेतर कार्रवाई कर सकते हैं। मामले के वादी सह लातेहार निवासी मनोहर प्रसाद व अन्य ने टीओपी-2 के लिए दो डिसमिल जमीन दी थी, परंतु टीओपी-2 ने दी गयी जमीन के अलावा भी भूखंड के अन्य हिस्से पर कब्जा कर रखा है। वादी का कहना था कि वे 1933 में निबंधित केवाला से तत्कालीन पलामू डीसी वाईए गोडबोले से 400 रुपए जरसमन दे कर तीन एकड़ 59 डिसमिल जमीन की खरीद की थी। वादी के अधिवक्ता आरएन चौबे ने अपने पक्ष में न्याय पाकर संतोष जाहिर की। उन्होंने कहा कि किसी प्रयोजन के लिए अधिग्रहित की गई जमीन उपयोग से अधिक हो जाने की स्थिति में उसे बेचने का अधिकार डीसी को हुआ करता था। वहीं सरकारी वकील अखिलेश्वर प्रसाद ने मामले को अपील में लेकर जाने की बात कही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:court ordered TOP-2 to vacate land