Thursday, January 20, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड पलामूपलामू जिले में 8919 दिव्यांग हैं पेंशन सुविधा से आच्छादित

पलामू जिले में 8919 दिव्यांग हैं पेंशन सुविधा से आच्छादित

हिन्दुस्तान टीम,पलामूNewswrap
Thu, 02 Dec 2021 11:30 PM
पलामू जिले में 8919 दिव्यांग हैं पेंशन सुविधा से आच्छादित

मेदिनीनगर। प्रतिनिधि

पलामू के स्वास्थ्य विभाग ने अभी तक 1411 लोगों को दिव्यांगता प्रमाण पत्र जारी किया है। इसमें 367 दिव्यांगों का यूआईडी कार्ड बनाना प्रक्रियाधीन है। जिले के विभिन्न सरकारी स्कूलों में वर्ग एक से लेकर 12वीं कक्षा तक में 1150 दिव्यांग बच्चे फिलवक्त अध्ययनरत हैं। सिविल सर्जन डॉ अनील कुमार ने बताया कि प्रत्येक बुधवार को दिव्यांगता जांच के लिए बोर्ड बैठती है, उसी में दिव्यांगता का प्रतिशत बोर्ड द्वारा तय की जाती है। दूसरी ओर जिला समाज कल्याण विभाग द्वारा वित्तीय वर्ष 2020-21 में 138 दिव्यांगों को ड्राइसाइकिल, 224 दिव्यांगों को वैशाखी, 48 दिव्यांगों को ब्लाइंड स्टीक, 21 को हियरिंग ऐड और 36 व्हील चेयर वितरण किया गया है। जिला समाज कल्याण विभाग पदाधिकारी संध्या रानी ने बताया कि अगले वित्तीय वर्ष में दिव्यांगों को मिलने वाले यंत्र के लिए डिमांड राज्य को भेज दिया गया है। पलामू जिले में फिलवक्त सामाजिक सुरक्षा विभाग की ओर से 8919 दिव्यांगों को पेशन का लाभ दिया जा रहा है। जिले में दिव्यांगों को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय दिव्यांग पेशन योजना और स्वामी विवेकानंद स्वावलंबन पेशन योजना का लाभ दिया जा रहा है। जिले में 7384 दिव्यांगों को स्वामी विवेकानंद नि:शक्त स्वावलंबन पेंशन का लाभ दिया जा रहा है जबकि 1535 दिव्यांगों को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय दिव्यांग पेंशन योजना के लाभ से आच्छादित किया गया है। जिला समाज कल्याण पदाधिकारी ने बताया कि दिव्यांगता दिवस पर शुक्रवार को टाउन हॉल में दिव्यांगों के बीच पेंटिंग प्रतियोगिता, क्विज प्रतियोगिता आदि का आयोजन किया गया है। साथ ही प्रतियोगिता में सफल होने प्रतिभागियों को पुरस्कृत भी किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि पलामू में दिव्यांगों के लिए फिलवक्त कोई आवासीय व्यवस्था सरकार के स्तर पर संचालित नहीं है। करीब दो दशक पहले तत्कालीन पलामू प्रमंडलीय मुख्यालय के जीएलएल कॉलेज परिसर में मूक-बधीर व नेत्रहीन के लिए संस्थान बनाने के लिए शिलान्यास करवाया गया था परंतु आजतक संबंधित योजना आकार नहीं ले सका।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें