DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

योजनाओं की जानकारी दें: मंत्री

योजनाओं की जानकारी दें: मंत्री

समाहरणालय सभागार में शनिवार को 20 सूत्री कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति की बैठक हुई। इस मौके पर श्रम मंत्री सह पाकुड़ जिले के बीस सूत्री प्रभारी मंत्री राजपलिवार भी मौजूद थे। पूर्व में हुई बैठक में उठे मुद्दों की समीक्षा की गई। पिछली बैठक में आए आवेदनों पर हुई कार्रवाई से भी मंत्री अवगत हुए। अपने संबोधन में मंत्री ने कहा कि अधिकारी योजनाओं की जानकारी जनप्रतिनिधियों को अवश्य दें। उन्होंने कहा कि इससे जनप्रतिनिधि आम लोगों को सरकारी योजनाओं से अच्छे तरीके से रूबरू कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि विकास योजनाओं में कार्यों की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दें। योजनाओं में भ्रष्टाचार किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। बैठक में उठा पेयजल, सड़क का मामला: सांसद प्रतिनिधि सह झामुमो के जिलाध्यक्ष श्याम यादव ने पाकुड़ शहरी जलापूर्ति योजना में हो रही देरी का मामला उठाया। उनका कहना था इससे शहरवासियों को पेयजल नहीं मिल पा रही है। गर्मी के मौसम में स्थिति काफी गंभीर हो जाती है। उन्होंने ग्रामीण इलाकों में हैंडपंपों की खराबी का मामला भी उठाया। इस पर मंत्री ने पेयजल एवं स्वच्छाता विभाग के पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि वह किसी क्षेत्र में हैंडपंप लगाने व मरम्मत के समय इसकी सूचना जनप्रतिनिधियों को जरूर दें। बैठक में सड़क निर्माण में अनियमितता बरते जाने की शिकायत पर मंत्री ने इसके लिए जांच टीम गठित करने का निर्देश दिया। उठाया अरबन अस्पताल में रात्रिकालीन सेवा बहाल का मामला: पाकुड़ के विधायक आलमगीर आलम ने मुख्यालय स्थित अरबन अस्पताल में रात्रि सेवा चालू किए जाने का मामला उठाया। उन्होंने तर्क दिया किया रात के समय मरीजों को आठ किमी दूर सदर अस्पताल जाने को मजबूर होना पड़ता है। जिससे काफी परेशानी होती है। अरबन अस्पताल दिन में खुला रहता है, लेकिन रात में यहां मरीजों को सेवाएं नहीं मिल पाती है। विधायक ने रात के समय एक चिकित्सक की ड्यूटी लगाने का सुझाव दिया। इस पर मंत्री विधायक से प्रस्ताव लिया। मंत्री ने यह व्यवस्था शीघ्र लागू करने का विधायक को भरोसा दिलाया। डीएफओ व श्रम अधीक्षक से मांगा गया स्पष्टीकरण : बैठक में अनुपस्थित रहने के कारण वन प्रमंडल पदाधिकारी प्रेमजीत आनंद व श्रम अधीक्षक से स्पष्टीकरण मांगा गया है। दोनों पदाधिकारी स्वयं उपस्थित नहीं हो अपने प्रतिनिधि भेजे थे। डीएफओ ने रेंजर को बैठक में भेजा था। बैठक में ये लोग थे मौजूद : महेशपुर के विधायक सह पूर्व उपमुख्यमंत्री प्रो. स्टीफन मरांडी, बीस सूत्री उपाध्यक्ष विवेकानंद तिवारी, सदस्य हिसाबी राय, शर्मिला रजक, अनुग्राहित साह, उपायुक्त दिलीप कुमार झा, एसडीओ जितेंद्र कुमार देव, कल्याण पदाधिकारी प्रमोद कुमार झा सहित अनेक प्रमुख पदाधिकारी व जनप्रतिनिधि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Information about plans: minister