DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › पाकुड़ › सरकारी शिक्षकों ने काला बिल्ला लगाकर किया विरोध प्रदर्शन
पाकुड़

सरकारी शिक्षकों ने काला बिल्ला लगाकर किया विरोध प्रदर्शन

हिन्दुस्तान टीम,पाकुड़Published By: Newswrap
Tue, 14 Sep 2021 05:10 AM
सरकारी शिक्षकों ने काला बिल्ला लगाकर किया विरोध प्रदर्शन

राज्य के वित्त मंत्री डां रामेश्वर उरांव ने सरकारी स्कूल के शिक्षकों के प्रति की गई विवादित बयान पर सोमवार को रानी ज्योतिर्मयी बालिका उच्च विद्यालय में झारखंड राज्य माध्यमिक शिक्षक संघ ने काला बिल्ला लगाकर विरोध प्रदर्शन किया। माध्यमिक शिक्षक संघ जिला इकाई ने इसकी कड़ी निंदा किया।

कहा कि मंत्री को समझना चाहिए कि प्राइवेट विद्यालय, शिक्षा का व्यवसाय करते हैं जबकि सरकारी विद्यालयों में गैर शैक्षणिक कार्यों का अंबार लगा दिया जाता है। शिक्षक संगठन बार-बार कहता है कि उन्हें गैर शैक्षणिक कार्यों से मुक्त कर दिया जाए परंतु सरकार के साथ-साथ संबंधित विभाग इस संदर्भ में मौन है। सरकारी विद्यालय में प्राइवेट विद्यालय से कहीं ज्यादा प्रतिभावान शिक्षक उपलब्ध है जो शिक्षा और शिक्षण को बेहतर करने का प्रयास कर रहे हैं। ऐसे में मंत्री का बयान शिक्षक समुदाय को हतोत्साहित करने वाला है। राज्य माध्यमिक शिक्षक संघ जिला इकाई मंत्री के इस अपमान जनक टिप्पणी का विरोध करते हुए उनके द्वारा दिए गए बयान को वापस लेने की मांग करता है। मौके पर संघ के कौशर कबीर, विजय कुमार भंडारी के अलावे अन्य मौजूद थे। इधर महेशपुर प्रतिनिधि के अनुसार राज्य के वित्त मंत्री डा. रामेश्वर उरांव के द्वारा सरकारी स्कूलों के प्रति दिए गए विवादित बयान के विरोध में सभी सरकारी विद्यालयों के शिक्षकों ने काला बिल्ला लगाकर विरोध जताया। शिक्षकों ने वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव के द्वारा दिए गए विवादित बयान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। महेशपुर प्लस टू उच्च विद्यालय के शिक्षक मो. जयनाल आवेदिन ने कहा कि रविवार को वित्त मंत्री के द्वारा दिए गए विवादित बयान में सरकारी विद्यालयो में पढ़ाई ठीक से नहीं होने तथा सरकारी विद्यालयों में अनुशासन का नहीं होना, न सिर्फ सरकारी विद्यालयों बल्कि सरकारी शिक्षकों का भी अपमान किया जाना है। वित्त मंत्री ने अपने विवादित बयान में कहा है कि अगर राज्य में निजी विद्यालय नहीं होते तो झारखंड राज्य में शिक्षा व्यवस्था ठप हो जाती। इसे लेकर शिक्षकों ने काला बिल्ला लगाकर विरोध जताया गया। शिक्षकों ने विरोध जताते हुए कहा कि वित्त मंत्री को अपने इस बयान को वापस लेते हुए माफी मांगनी चाहिए। मौके पर शिक्षक कांति शर्मा, रोजलीन स्वीटी होरो, विकास कुमार मेहता, अमृत सिंह, सुमित भगत, जाबिर अली, अनुप मंडल, शेखर झा, करूणा एक्का, एनी एलेन मुर्मू, पुर्णिमा कुमारी, किशोरी रविदास, नरेश सिंह, मालती देवी मौजूद थे।

संबंधित खबरें