DA Image
21 अक्तूबर, 2020|3:35|IST

अगली स्टोरी

टपक रहा एफसीआई का गोदाम, अनाज पर संकट

default image

कृषि बाजार प्रांगण स्थित एफसीआई गोदाम की छत जगह-जगह से टपक रही है। बरसात में अनाज की बोरियों को सुरक्षित रखना मुश्किल हो गया है। कहीं डेगची तो कहीं डब्बा रखकर टपकते हुए पानी को गोदाम की फर्श पर फैलने से रोकने का जुगाड़ लगाया गया है। गोदाम प्रबंधन से जुड़े अधिकारी ने बताया कि कई जगहों पर एस्बेस्टस की शीट टूटी हुई है। बरसात होने पर पानी अंदर गिरने लगता है। गोदाम में 25 हजार मीट्रिक टन अनाज रखने की क्षमता है। यहां से जिले के प्रखंडों में स्थित राज्य खाद्य निगम के पांच गोदामों में अनाज भेजे जाते हैं। चावल और गेहूं दोनों का ही भंडारण यहां होता है।कुछ जगह पर छत से पानी सीधे अनाज की बोरियों पर टपक रहा है। अनाज खराब न हो, इसके लिए प्लास्टिक की चादर बोरियों के ऊपर रखी गई है। मगर यह हल्की बारिश में ही कारगर हो सकता है। अभी बरसात पूरे रौ में नहीं है। लगातार कई दिनों तक या भारी बारिश होने की स्थिति में गोदाम में रखे अनाज भींग कर खराब हो सकते हैं।गौरतलब है कि करीब तीस साल पहले बना यह गोदाम बेहद जर्जर हो चुका है। बरामदे में कई जगहों पर सीलिंग टूट कर गिर रही है। बीम भी झुक गया है। कर्मचारी कहते हैं कि गोदाम की हालत ठीक नहीं। भले ही इसे उपयोग में लाया जा रहा हो मगर यह खतरनाक घोषित किया जाना चाहिए। जर्जर गोदाम में अनाज उतारने-चढ़ाने वाले मजदूरों की जान दांव पर लगी हुई है।

लाकडाउन की वजह से नहीं हो सकी मरम्मत--सचिव

बाजार समिति को इस गोदाम का 54 हजार रुपए किराया मिलता है। बावजूद गोदाम को दुरुस्त कराने की दिशा में ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है।कृषि बाजार समिति के पणन सचिव अभय कुमार ने बताया कि विशेष मरम्मत के लिए पत्र लिखा गया है। पानी टपकना रोकने के लिए मरम्मती का सामान लाकडाउन की वजह से नहीं मिल पाया है। इसे जल्द ठीक कराया जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:FCI warehouse is dripping grain crisis