DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › लोहरदगा › नक्सली हिंसा के शिकार लोगों के आश्रितों को मिलेगी नौकरी
लोहरदगा

नक्सली हिंसा के शिकार लोगों के आश्रितों को मिलेगी नौकरी

हिन्दुस्तान टीम,लोहरदगाPublished By: Newswrap
Wed, 07 Jul 2021 03:10 AM
नक्सली हिंसा के शिकार लोगों के आश्रितों को मिलेगी नौकरी

लोहरदगा। संवाददाता

उग्रवादी हिंसा में मारे गये लोगों के परिजनों को त्वरित आर्थिक सहायता समेत अन्य लाभ मिलेगा। डीसी ने इसे लेकर अधिकारियों को तमाम प्रक्रिया जल्द पूरा करने को कहा है।

उग्रवादी हिंसा में वर्ष 2020 में मारे गए पेशरार प्रखंड निवासी जागीर भगत की पत्नी लीलमनी बाखला को अनुदान के रूप में एक लाख रुपए और पुत्र प्रकाश भगत को चतुर्थवर्गीय कर्मचारी के रूप में नौकरी देने का प्रस्ताव गृह विभाग भेजने का निर्णय लिया गया। वर्ष 2019 में केकरांग घाटी में प्रेशर बम विस्फोट का शिकार हुई जगदीश उरांव की बेटी जमुना कुमारी के परिजनों को अनुग्रह अनुदान के रूप में एक लाख रूपए की राशि दिये जाने के प्रस्ताव और भाई राजकुमार उरांव को नौकरी दिये जाने का प्रस्ताव गृह विभाग को भेजने का निर्णय लिया गया।

वर्ष 2001 में नक्सली हिंसा के शिकार लखन सिंह के पुत्र अमरजीत सिंह को चतुथवर्गीय कर्मी के रूप में नौकरी के लिए दिवंगत की पत्नी द्वारा भेजे गये आवेदन पर गृह विभाग से मार्गदर्शन मांगने का निर्णय लिया गया। जून 2021 में पेशरार में उग्रवादी घटना में मारे गये हीरालाल टाना भगत के आश्रितों को सरकारी सहायता के लिए आवश्यक दस्तावेज जुटाने का निर्देश दिया गया। सहायक निदेशक, सामाजिक सुरक्षा कोषांग को तत्काल सहायता राशि के रूप में बीस हजार रूपए मृतक के परिजन को उपलब्ध कराने को कहा।

संबंधित खबरें