DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाल विवाह और भ्रूण हत्या के खिलाफ समाज को जागरूक करें: सचिव

बाल विवाह और भ्रूण हत्या के खिलाफ समाज को जागरूक करें: सचिव

दुनिया में हर मिनट 28 बाल विवाह हो रहे हैं। बालिकाओं के कम उम्र में विवाह को रोककर 27 हजार नवजातों, 56 हजार शिशुओं और करीब डेढ़ लाख बच्चों को मौत से बचाया जा सकता है। जिला विधिक सेवा प्राधिकार द्वारा आयोजित पैरालीगल वालंटियर्स के दो दिनी ट्रेनिंग में यह बात सामने आई। समाज के लिए इसे गंभीर चुनौती मानते हुए इसे खत्म करने पर बल दिया गया। कन्या भ्रूण हत्या, बाल विवाह और टीनएज प्रेगनेंसी के दुष्प्रभाव और समाज में जागरूकता लाकर इसे रोकने के लिए वालंटियर्स को विशेषज्ञों द्वारा जानकारी दी गई। समापन सत्र को संबोधित करते हुए जिला विधिक सेवा प्राधिकार सचिव लक्ष्मीकांत ने कहा कि इन कुरीतियों को रोकने के लिए संबंधित क़ानून की जानकारी होनी आवश्यक है। पैरालीगल वालंटियर्स अपनी जिम्मेदारी का ईमानदारी से निर्वहन करें। वक्ताओं ने कहा कि पिछली जनगणना के विश्लेषण में यह बात सामने आई थी कि देश में पिछले एक दशक में 10 करोड़ से भी अधिक बाल हुए हैं। लड़कियों को शिक्षित करना और उनमें भरोसा पैदा करना बहुत जरूरी है। जागरूकता का स्तर बढ़ाना होगा। टीनएज प्रेगनेंसी समाज और कानून के लिए बड़ी समस्या बन कर सामने आ रहा है। बेटे और बेटियों में फर्क नहीं करने के लिए समाज को जागरूक करने के तौर तरीकों के बारे में भी चर्चा की गई। चाईबासा की पैरालीगल वालंटियर बसंती ग्रुप के निधन पर तमाम लोगों ने शोक व्यक्त किया। इस मौके पर न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी मनोज कुमार इंदवार, ट्रेनर अरशद हुसैन, पैनल अधिवक्ता बी के एन तिवारी, अनिल कुमार पांडे, प्रवीण कुमार भारती आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:10 crore child marriage in a decade, must stop it- secretary