DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › लातेहार › भारी बारिश से तबाही, कई बांध टूटे, शहरी क्षेत्र में भी मचा तांडव
लातेहार

भारी बारिश से तबाही, कई बांध टूटे, शहरी क्षेत्र में भी मचा तांडव

हिन्दुस्तान टीम,लातेहारPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 03:02 AM
जिले में भारी बारिश ने जमकर तबाही मचायी। बारिश के कारण सदर प्रखंड के कोल्हेरूआ गांव में बांध टुट गया। इस कारण लगभग 20 एकड़ से अधिक भूमि पर लगाई गई...
1 / 2जिले में भारी बारिश ने जमकर तबाही मचायी। बारिश के कारण सदर प्रखंड के कोल्हेरूआ गांव में बांध टुट गया। इस कारण लगभग 20 एकड़ से अधिक भूमि पर लगाई गई...
जिले में भारी बारिश ने जमकर तबाही मचायी। बारिश के कारण सदर प्रखंड के कोल्हेरूआ गांव में बांध टुट गया। इस कारण लगभग 20 एकड़ से अधिक भूमि पर लगाई गई...
2 / 2जिले में भारी बारिश ने जमकर तबाही मचायी। बारिश के कारण सदर प्रखंड के कोल्हेरूआ गांव में बांध टुट गया। इस कारण लगभग 20 एकड़ से अधिक भूमि पर लगाई गई...

लातेहार हिटी।

जिले में भारी बारिश ने जमकर तबाही मचायी। बारिश के कारण सदर प्रखंड के कोल्हेरूआ गांव में बांध टुट गया। इस कारण लगभग 20 एकड़ से अधिक भूमि पर लगाई गई धान की फसल पूरी तरह बर्बाद हो गई। इससे ग्रामीणों को बड़ा नुकसान हुआ है। उधर सदर प्रखंड के परसही गांव में भी बांध टुट गया। जिससे किसानों को भारी क्षति हुई हैं। किसानों ने प्रशासन से बांध की मरम्मती कराने के साथ साथ मुआवजा भी देने की मांग की है।

शहरी क्षेत्र में भी बारिश ने जमकर तांडव मचाया। बारिश के कारण पोचरा मोड़ के पास एनएच पर पानी का जमाव हो गया था। इस स्थान पर सड़क के बीचो बीच लगभग तीन फिट गड्ढा हो जाने के कारण कई गाड़िया फंस जा रही थी। वहीं कई छोटे वाहनों के चालकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। समाजसेवी मोती प्रसाद सोनी ने तत्काल इसकी सूचना नगर पंचायत के अधिकारियों को दी और अविलंब यहां सड़क को दुरूस्त कराने की मांग की। इस पर नगर पंचायत की सीटी मैनेजर और वार्ड पार्षद जितेंद्र पाठक वहां पहुंचे और आश्वस्त किया कि नगर पंचायत के द्वारा सड़क से पानी निकासी की व्यवस्था करवायी जाएगी।

वार्ड पार्षद की तत्परता से बचा बांध

वार्ड पार्षद जितेंद्र पाठक की तत्परता से बानपुर मुहल्ले में एक बांध टुटने से बच गया। बताया गया कि जोरदार बारिश के कारण बांध का एक भाग काफी कमजोर हो गया था। वहीं बांध से पानी निकासी का रास्ता अवरूद्ध हो गया था। ऐसे में स्थिति की गंभीरता को दखते हुए वार्ड पार्षद ने बिना सरकारी मदद के इंजतार किए खुद ही बांध के कमजोर स्थल को भरवाया और पानी निकासी स्थल को साफ करवाया। जिसके बाद बांध को बचाया जा सका। वार्ड पार्षद ने कहा कि इस बांध के टुटने से कई घर तबाह हो जाते।इधर वार्ड पार्षद के इस तत्परता की लोगों ने सराहना की है।

श्रमदान से बनी पुलिया टूटी, गांवों से मुख्यालय का संपर्क टूटा

चंदवा। तीन दिनों से हो रही लगातार बारिश ने कई कई लोगों को बर्बाद कर दिया है। कई के खेत मे लगे फसल बर्बाद हो गए तो कई के घरों में घुसकर पानी ने काफी नुकसान पहुंचाया है पूरे प्रखंड में जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है।शहर से लेकर ग्रामीण इलाके तक पानी चर्चा का विषय बन गया है। खेत नदी नाले बारिश के पानी से डूब चुके हैं ।धान के अलावे सब्जी की खेती को भारी नुकसान हुआ है ।नहर में पानी लबालब हो चुका है यह सड़क के ऊपर दूसरी ओर खेतों को डूबा चुका है । रेची,बारी समेत दर्जनभर गांव का संपर्क प्रखंड मुख्यालय से कट गया है ।अब मुख्यालय तक आने के लिए बनहरदी पंचायत होते लंबी दूरी तय कर आना पड़ रहा है ।चेटर पंचायत अंतर्गत रखात गांव जाने वाले पथ पर घनघरी नदी पर ग्रामीणों द्वारा द्वारा बनाया गया डायवर्शन बारिश के पानी के कटाव से बह गया,कई वर्षों से रखात समेत अन्य गांवों के लोग इस नदी पर पुल बनाने की मांग कर रहे हैं। बारिश के दिनों में स्थानीय लोगों को काफी परेशानी होती है, लोगों ने श्रमदान कर नदी पर पाइप एवं मिटी डाल कर डायवर्सन बनाया था। अब रखात समेत अन्य गांवों के लोगो को प्रखंड मुख्यालय आने के लिए चेटर स्टेशन आना होगा। शहर में भी बारिश ने कहर बरपाया है। कई मुहल्ले डूब क्षेत्र में तब्दील हो गए हैं। घरों में बारिश का पानी घुस गया है। मेन रोड स्थित गैराज लेन के समीप मुख्य पथ पूरी तरह डूब चुका है। इसी स्थान पर पूर्वी छोर में रहने वाले कई लोगों के घर में बारिश का पानी घुस गया। रात भर लोग घर के सामान व खुद को बचाने की कोशिश में लगे रहे। सड़कों की हालत बदतर हो गई है। जगह जगह बड़े-बड़े गड्ढे बन गए हैं ।बारिश का पानी भरा होने के कारण गड्ढों का पता नहीं चल पा रहा है।दुर्घटना के सबसे ज्यादा शिकार बाइक सवार बन रहे हैं।

कई ग्रामीणों को घर ध्वस्त

बारियातू प्रखण्ड भारी बारिश के कारण कई घर ध्वस्त हो गए। बारियातू पंचायत के मुखिया प्रमोद उरांव ने बताया कि लोदमदाग में बाढ़ो उरांव ,पेनो मसोमत ,तालेश्वर उरांव ,बालकिशुन उरांव ,बसंती देवी ,बिरहोरी पतरा निवासी सूरज भुइंया ,नचना निवासी बंशी भुइंया ,ललिता देवी व मुकेश भुइंया का घर गिर गया। जिससे 5 लाख से ऊपर का नुकसान हुआ है। अमरवाडीह मुखिया राजेन्द्र उरांव के अनुसार अमरवाडीह निवासी सोमर गंझु रहिया के कैल भुइंया, सुरेश गंझु चेडरा के उमेश यादव, सुरेश लोहरा, जोगेंद्र उरांव का घर गिरने से कुल तीन लाख का नुकसान हुआ है। शिबला पंचायत के ग्राम प्रधान दिलीप सिंह ने बताया कि मकरा निवासी शांति देवी कुसमाहा के कमलेश ठाकुर, राजेश यादव का घर गिरने से दो लाख का नुकसान हुआ है। बालुभांग पंचायत के वार्ड आठ के सदस्य पिंटू केशरी के अनुसार मंजू देवी , ललिता देवी का गिरने से डेढ़ लाख का नुकसान हुआ है। पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा जिसका घर पूरी तरह ध्वस्त हो गया है वैसे परिवार को आंगन बाड़ी व विद्यालयों में शरण दिलाकर भोजन पानी की व्यवस्था देने की बात कही है।

महुआडांड़ के गुड़गुड़टोली में एक घर हुआ ध्वस्त

महुआडांड़ प्रखंड में लगातार हो रही बारिश से शुक्रवार की रात गुड़गुड़टोली के सदीक उल रहमान का कच्चा मकान ध्वस्त हो गया है।इसकी जानकारी देते हुए सदीक उल रहमान ने बताया कि हम लोग इसी घर में रहते थे । लेकिन घर की हालत को देखते हुए हम सभी परिवार सहित ग्राम दीपा टोली में किराया का घर लेकर रह रहे हैं। मेरा आवास प्लस में नाम आया हुआ है ,लेकिन अभी तक आवास नहीं मिल पाई है। ज्ञात हो कि इससे पूर्व में गुड़गुड़टोली निवासी अकबर हुसैन तथा महुआडांड़ मुख्य बाजार निवासी संतोष कुमार का घर ध्वस्त हो गया है।इन सभी के द्वारा प्रशासन से गुहार लगाते हुए जल्द से जल्द आवास योजना का लाभ देने की मांग की है।

ग्रामीणों का आवागमन प्रभावित

मनिका प्रखंड के नामुदाग पंचायत के साधवाडीह गांव का छलका भारी बारिश के कारण ध्वस्त हो गया।छलका ध्वस्त होने से ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।ग्रामीण राजपाल सिंह ने कहा कि इस छलका से बड़ा हाइवा गुजरता भी है।उन्होंने कहा कि ग्रामीणों को छलका ध्वस्त होने से काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।उन्होंने कहा कि छलक काफी पुराना है।भारी बारिश के कारण छलके के ऊपर से पानी गुजर रहा है।वहीं ग्रामीण दिनेश सिंह ने प्रशासन से छलका के जगह पुल बनाने की मांग की है।उन्होंने कहा कि प्रखंड मुख्यालय से जोड़ने वाला एक मात्र गांव का रास्ता है। ज्ञात हो कि इस छलका से प्रखंड के आधे दर्जन गांव मनधनिया,जानहो, पटना,बरबैया समेत कई गांवों के लोग प्रतिदिन प्रखंड मुख्यालय जाते हैं।समाचार लिखे जाने तक छलका के ऊपर से पानी गुजर रहा था। ग्रामीण किसी तरह से उक्त छलका से पैदल पार हो रहे हैं।वहीं उपप्रमुख उमेश कु यादव ने भी प्रशासन से अविलंब तात्कालिक व्यवस्था कराने की मांग की है।

संबंधित खबरें