ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड लातेहारजिले में 15 प्रतिशत चापाकल खराब

जिले में 15 प्रतिशत चापाकल खराब

लातेहार जिले में भीषण गर्मी से पानी पाताल में चला गया हैं। वहीं जिले के कई डार्क जोन में पानी नहीं मिलने से लोगों का जीना मुहाल हो गया हैं। भीषण...

जिले में 15 प्रतिशत चापाकल खराब
हिन्दुस्तान टीम,लातेहारTue, 28 May 2024 02:30 AM
ऐप पर पढ़ें

लातेहार प्रतिनिधि। लातेहार जिले में भीषण गर्मी से पानी पाताल में चला गया हैं। वहीं जिले के कई डार्क जोन में पानी नहीं मिलने से लोगों का जीना मुहाल हो गया हैं। भीषण गर्मी के कारण पानी अपने जलस्तर को छोड़ रसातल की और पहुंच गई है। जिले को दूसरी साल भी सूखाग्रस्त घोषित किए जाने के बाद इस बार पेयजल संकट से जिले के कई इलाके जूझ रहे हैं। जिला मुख्यालय समेत कई ऐसे प्रखंड के क्षेत्र है,जहां जलस्तर नीचे चले जाये जाने के कारण पानी की गंभीर समस्या बनी हुई है। सदर प्रखंड के धनकारा और देमू पंचायत डार्क जोन में है। वहीं मनिका प्रखंड का नामुदाग और साधवाडीह, महुआडांड़ प्रखंड के नेतरहाट और सोहरपाठ, हेरहंज प्रखंड का सेरनदाग व सलैया में भी भूजल काफी नीचे है। उक्त क्षेत्र में भूजल लगभग जमीन से 90 मीटर की गहराई पर मौजूद है, इसके अलावा भीषण गर्मी पड़ने पर भूजल 7 से 10 मीटर और धरातल में चले गये हैं। इधर नदियों के किनारे बसे गांव की स्थिति भी खराब बनी हुई हैं। बालू का अवैध उठाव से जलस्तर भी लगातार नीचे जा रहा हैं। वहीं कई जलस्तर नीचे चले जाने के कारण जलमीनार से पानी ही नहीं निकल रहा हैं। वहीं कई जलमीनार भी खराब पड़े हुए हैं। बरवाडीह में नया पाइप के अभाव में लगभग 100 चापानल खराब है। अब तक नया पाइप की व्यवस्था नही होने से ग्रामीणों को पेयजल समस्या से जूझना पड़ रहा है। अभी जो फिलहाल स्थिति बनी हुई है,उससे नया पाइप की आपूर्ति होने की संभावना कम ही लग रही है। पेयजल एवं विभाग के सहायक अभियंता प्रशांत कुमार पांडेय ने बताया कि विभिन्न पंचायतो से जो रिपोर्ट मिली है,उसके हिसाब से करीब 100 चापानल नया पाइप के बिना खराब होकर पड़ा हुआ है। चार जून के बाद नया पाइप खरीदारी के लिए विभाग की ओर से टेंडर निकलेगा। इसके बाद ही नया पाइप की आपूर्ति के बाद उक्त चापानल में पाइप लगाया जा सकेगा । इस संबंध में पीएचईडी विभाग के कार्यपालक अभियंता दीपक कुमार ने बताया कि जिले के विभिन्न प्रखंड़ों में दस हजार चापाकल लगाया गया हैं,जिसमें 85 प्रतिशत चापाकल सही हैं। बाकि खराब चापाकल को मरम्मत करने की पहल की जा रही हैं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।