DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खसरा जानलेवा रोग, टीकाकरण ही बचाव का एकमात्र उपाय

खसरा जानलेवा रोग, टीकाकरण ही बचाव का एकमात्र उपाय

बिरसा मुंडा सांस्कृतिक भवन कोडरमा में 24 जुलाई को सूचना एवं जनसंपर्क कार्यालय कोडरमा के तत्वावधान में रूबेला व खसरा से संबंधित विषय पर सेमिनार का आयोजन किया गया। इसमें प्रखंड के सभी एएनएम, सदर अस्पताल के डॉक्टर, स्कूल के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। उपस्थित सभी डॉक्टरों ने एक-एक करके टीकाकरण के बारे में प्रकाश डाला। सेमिनार के माध्यम से बताया गया कि खसरा एक जानलेवा रोग है और इससे बचा जा सकता है। यह रोग मुख्यता 0 से 15 वर्ष के बच्चों को होने की संभावना होती है। खसरा के कारण बच्चों में विकलांगता हो सकती है । रूबेला एक प्रकार का वायरस है जिसे संक्रमण फैलता है। यह लड़के व लड़कियों दोनों में हो सकता है। बताया गया कि यह संक्रमण गर्भवती महिलाओं में हो जाए तो बच्चे विकलांग हो सकते है। उन्होंने बताया कि इससे निजात पाने के लिए राज्य व जिला स्तर पर टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा। यह 26 जुलाई से शुरू किया जाएगा। इसके लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी है। इस मौके पर डॉ. एवी प्रसाद, प्रभारी मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी, जिला शिक्षा अधीक्षक कोडरमा, डॉ. हरेंद्र कुमार , डॉ. भारती सिन्हा, विपिन कुमार आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: seminar on rubella and measles